Best Khyaal Shayari in Hindi



सब कुछ मिला सुकून की दौलत नहीं मिली....!!!
एक तुझको भूल जाने की मौहलत नहीं मिली....!!!
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर....!!!
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत नहीं मिली....!!!


​खयालों में ​उसके मैंने बिता दी ज़िंदगी सारी....!!!
​​इबादत कर नहीं पाया खुदा नाराज़ मत होना​....!!!



उसके बगैर भी तो अदम कट गई हयात....!!!
उसका खयाल उससे जियादा जमील था....!!!


तेरे ख्याल में जब बे-ख्याल होता हूँ....!!!
ज़रा सी देर को सही बे-मिसाल होता हूँ....!!!



रोज़ आता है मेरे दिल को तसल्ली देने....!!!
ख्याल ए यार को मेरा खयाल कितना है....!!!


तुझे ख़्वाबों में पाकर दिल का क़रार खो ही जाता है....!!!
मैं जितना रोकूँ ख़ुद को तुझसे प्यार हो ही जाता है....!!!




मुझे मालूम है कि ये ख्वाब झूठे हैं
और ख्वाहिशे अधूरी हैं....!!!
मगर जिन्दा रहने के लिए
कुछ गलतफहमियाँ भी जरूरी हैं ....!!!



था जहाँ कहना वहां कह न पाये उम्र भर....!!!
कागज़ों पर यूँ शेर लिखना बेज़ुबानी ही तो है....!!!



तेरे सीने से लगकर....!!! तेरी आरजू बन जाऊँ....!!!
तेरी साँसो से मिलकर....!!! तेरी खुशबू बन जाऊँ....!!!
फासले ना रहें कोई हम दोनों के दरमियाँ....!!!
मैं....!!! मैं ना रहूँ....!!! बस तू ही तू बन जाऊँ....!!!



किसी रोज़ होगी रोशन....!!! मेरी भी ज़िंदगी....!!!....!!!....!!!
इंतज़ार सुबह का नही....!!! किसी के लौट आने का है....!!!


होती अगर मोहब्बत बादल के साये की तरह....!!!
तो मै तेरे शहर मे कभी धूप ना आने देता ....!!!





मैने कब तुझसे ज़माने की खुशी माँगी हैं....!!!
एक हल्की सी मेरे लब ने हँसी माँगी हैं ....!!!
सामने तुझको बिठाकर तेरा दीदार करूँ....!!!
अपनी आँखों में बसा कर कोई इक़रार करू....!!!
जी में आता हैं के जी भर के तुझे प्यार करू....!!!



खरीद लेंगे सबकी सारी उदासियाँ दोस्तों ....!!!
सिक्के हमारे मिजाज़ के....!!! चलेंगे जिस रोज ....!!!....!!!



दिल की वादी से ख़िज़ाओं का अजब रिश्ता है....!!!
फूल ताज़ा तेरी यादों के कहाँ तक रक्खूँ ....!!!

ख़ामोश रास्तों पे नई दास्ताँ लिखूँ....!!!
तन्हा चलूँ सफ़र में मगर कारवाँ लिखूँ ....!!!

ऊँचाईयों की नब्ज़ पे रख के मैं उंगलियाँ....!!!
तेरी हथेलियों पे कई आस्माँ लिखूँ ....!!!....!!!



उसकी मौहब्बत का सिलसिला भी
क्या अजीब सिलसिला था....!!!....!!!....!!!
अपना भी नहीं बनाया और
किसी का होने भी नहीं दिया ....!!!

मैं कभी सिगरेट पीता नहीं
मगर हर आने वाले से पूछ लेता हूं
कि माचिस है ?

बहुत कुछ है जिसे मैं फूंक देना चाहता हूं....!!!....!!!....!!!....!!!....!!!



मुस्कुराते रहोगे तो दुनिया आपके क़दमों में होगी....!!!
वरना आंसुओं को तो तो आँखें भी पनाह नहीं देती....!!!



दुनिया ने किस का राह-ए-वफ़ा में दिया है साथ....!!!
तुम भी चले चलो यूँ ही जब तक चली चले....!!!


​उनके साथ जीने का एक मौका दे दे ऐ खुदा....!!!
तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे​....!!!



अच्छी सूरत नज़र आते ही मचल जाता है....!!!....!!!....!!!
किसी आफ़त में न डाल दे दिल-ए-नाशाद मुझे ....!!!

कच्ची दीवार हूँ ठोकर ना लगाना मुझे....!!!
अपनी नज़रों में बसा कर ना गिराना मुझे....!!!
तुमको आँखों में तसव्वुर की तरह रखता हूँ....!!!
दिल में धड़कन की तरह तुम भी बसाना मुझे....!!!



कभी तुम भी नज़र आओ....!!!
सुबह से शाम तक हम को....!!!
बहुत से लोग मिलते हैं....!!!
निगाहों से गुज़रते हैं....!!!
कोई अंदाज़ तुम जैसा....!!!
कोई हमनाम तुम जैसा....!!!
मगर तुम ही नहीं मिलते....!!!
बहुत बेचैन फिरते हैं....!!!
बड़े बेताब रहते हैं....!!!
दुआ को हाथ उठते हैं....!!!
दुआ में यह ही कहते हैं....!!!
लगी है भीड़ लोगों की....!!!
मगर इस भीड़ में साक़ी
कभी तुम भी नज़र आओ....!!!
कभी तुम भी नज़र आओ....!!!....!!!....!!!....!!!



भरम रखो मोहब्बत का
वफ़ा की शान बन जाओ....!!!
किसी पर जान देदो या
किसी की जान बन जाओ....!!!
तुम्हारे नाम से मुझको
पुकारें ये जहान वाले....!!!....!!!....!!!
मैं बन जाऊं अफसाना
और तुम उन्वान बन जाओ....!!!....!!!....!!!



मेरे वजूद में काश तू उतर जाए....!!!
मैं देखूं आइना और तू नजर आये....!!!
तू हो सामने और वक्त ठहर जाए....!!!
और ये जिंदगी तुझे यूँ ही
देखते हुए गुज़र जाए....!!!....!!!....!!!....!!!



जाड़ों की गुनगुनी धूप
गर्मियों की शामें
और बरसात की हरियाली
मुझे मायूस करते हैं
मैं कुछ खो सा जाता हूँ
फिर....!!!....!!!....!!!
कभी तेरे ख्यालात
और कभी मेरे जज़्बात
हावी होते जाते हैं
फिर एक सावन आता है
सब कुछ बह सा जाता है
मुझे महसूस होता है
अगर मैं हूँ तो फिर क्यूँ हूँ
मन जाने क्या क्या कह जाता है

पर दर्द अनसुना सा रह जाता है ....!!!....!!!

No comments:

Post a Comment