SMS Shayari in Hindi



हमसफ़र तो साथ-साथ चलते हैं;
रास्ते तो बेवफ़ा बदलते हैं;
आपका चेहरा है जब से मेरे दिल में;
जाने क्यों लोग मेरे दिल से जलते हैं......####

***************************

घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली;
सारी गली उनकी फिराक मे निकली;
इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से;
और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली......####

***************************

मैं खुद पहल करूँ या उधर से हो इब्तिदा;
बरसों गुज़र गए हैं यही सोचते हुए।......####

***************************

निकलते हैं तेरे आशियां के आगे से यह सोच कर कि तेरा दीदार हो जायेगा;
खिड़की से तेरी सूरत न सही तेरा साया तो नजर आएगा......####

***************************

चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं;
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते हैं;
बच के रहना इन हुस्न वालों से यारो;
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं......####

***************************

साहिल पर खड़े-खड़े हमने शाम कर दी;
अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी;
ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी;
बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी......####

***************************

आँखों मे आ जाते है आँसू;
फिर भी लबों पे हँसी रखनी पड़ती है;
ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो;
जिस से करते हैं उसी से छुपानी पड़ती है......####

************************

न हम कुछ कह पाते हैं, न वो कुछ कह पाते हैं;
एक दूसरे को देखकर गुजर जाया करते हैं;
कब तक चलता रहेगा ये सिलसिला;
ये सोचकर दिन गुजर जाया करते हैं......####

***************************

शायर तो हम है शायरी बना देंगे;
आपको शायरी मे क़ैद कर लेंगे;
कभी सुनाओ हमें अपनी आवाज़;
आपकी आवाज़ को हम ग़ज़ल बना देंगे......####

***************************

कब तक होश संभाले कोई, होश उड़े तो उड़ जाने दो;
दिल कब सीधी राह चला है, राह मुड़े तो मुड़ जाने दो......####

***************************

नक़ाब क्या छुपाएगा शबाब-ए-हुस्न को;
निगाह-ए-इश्क तो पत्थर भी चीर देती है......####

***************************

मोहब्बत एक नाम है दर्द और ख़ुशी की कहानी का;
मोहब्बत एक नाम है हर पल मुस्कुराने का;
ये कोई लम्हा दो लम्हों की पहचान नहीं है;
मोहब्बत एक नाम है हर पल साथ निभाने का......####

***************************

होठों पर मोहब्बत के फ़साने नहीं आते;
साहिल पर समंदर के खजाने नहीं आते;
पलकें भी चमक उठती हैं सोते हुए हमारी;
आँखों को अभी ख्वाब छुपाने नहीं आते......####

***************************

फ़िज़ा को महकाती शाम हो तुम;
प्यार में छलकता जाम हो तुम;
तुम्हें दिल में छुपाये फिरते हैं;
मेरी ज़िंदगी का दूसरा नाम हो तुम......####

***************************

मैंने अपनी हर एक सांस तुम्हारी गुलाम कर रखी है;
लोगों में ये ज़िन्दगी बदनाम कर रखी है;
अब ये आइना भी क्या काम का मेरे;
मैंने तो अपनी परछाई भी तुम्हारे नाम कर रखी है......####

***************************

यूँ ही तो नहीं दिल मेरा तुझे तलाशता फिरता;
कर यकीन मंज़िल का तू ही है किनारा मेरा;
यूँ ही तो नहीं आयी सदा तेरी हवाओं में बह कर;
हौले से तूने ही होगा नाम पुकारा मेरा......####

***************************

अरे आप क्यों नहीं समझते हो सनम;
दिल का दर्द दबता नहीं है दबाने से;
आपको मोहब्बत का इज़हार करना ही पड़ेगा;
क्योंकि मोहब्बत छुपती नहीं छुपाने से......####

*************************

वो बात क्या करूँ जिसकी खबर ही न हो;
वो दुआ क्या करूँ जिसमे असर ही न हो;
कैसे कह दूँ आपको लग जाये मेरी भी उम्र;
क्या पता अगले पल मेरी उम्र ही न हो......####

***************************

छुपा लूंगा तुझे इस तरह से मेरी बाहों में;
हवा भी गुज़रने के लिए इज़ाज़त मांगे;
हो जाऊं तेरे इश्क़ में मदहोश इस तरह;
कि होश भी वापस आने के इज़ाज़त मांगे......####

***************************

उधर ज़ुल्फ़ों में कंघी लग रही है और ख़म निकलता है;
इधर रग-रग से खिंच-खिंच के हमारा दम निकलता है;
इलाही ख़ैर कर उलझन पे उलझन पड़ती जाती है;
ना उनका ख़म निकलता है ना अपना दम निकलता है......####


***************************

इश्क़ नाज़ुक मिजाज़ है बे-हद;
अक्ल का बोझ उठा नहीं सकता......####

***************************

तू ही बता ए दिल तुम्हें समझाऊं कैसे;
जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे;
यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा;
मगर उस एहसास को ये एहसास दिलाऊं कैसे......####

***************************

क्या ज़रूरी है कि हम हार के जीतें 'तबिश';
इश्क़ का खेल बराबर भी तो हो सकता है......####

***************************

कभी लफ्ज़ भूल जाऊं, कभी बात भूल जाऊं;
तूझे इस क़द्र चाहूँ के अपनी ज़ात भूल जाऊं;
उठ के तेरे पास से जो में चल दूँ;
जाते हुए खुद को तेरे पास भूल जाऊं......####

***************************

अब मगर कुछ भी नहीं, कुछ भी नहीं हो सकता;
अपने जज़्बों से यह रंगीन शरारत न करो;
कितनी मासूम हो, नाज़ुक हो, हमाक़त न करो;
बार बार हाँ तुम से कहा था कि मोहब्बत न करो......####

***************************

फिर न सिमटेगी मोहब्बत जो बिखर जायेगी;
ज़िंदगी ज़ुल्फ़ नहीं जो फिर संवर जायेगी;
थाम लो हाथ उसका जो प्यार करे तुमसे;
ये ज़िंदगी ठहरेगी नहीं जो गुज़र जायेगी......####

***************************

जिस रंग में देखो उसे वो पर्दानशीं है;
और उस पे ये पर्दा है कि पर्दा ही नहीं है;
मुझ से कोई पूछे तेरे मिलने की अदायें;
दुनिया तो यह कहती है कि मुमकिन ही नहीं है......####

***************************

कौन कहता है मोहब्बत की ज़ुबान होती है;
होंठों के बिना खुले ही हक़ीक़त बयां होती है;
इश्क़ वो खुदायी है मेरे दोस्त,
जो लफ़्ज़ों से नहीं आँखों से बयां होती है......####

***************************

सरे राह जो उनसे नज़र मिली,
तो नक़्श दिल के उभर गए;
हम नज़र मिला कर झिझक गए,
वो नज़र झुका कर चले गए......####

***************************

जब आंसू आए तो रो जाते हैं;
जब ख्वाब आए तो खो जाते हैं;
नींद आंखो में आती नहीं;
बस आप ख्वाबो में आयेंगे, यही सोच कर सो जाते हैं......####

***************************

ना जाने इतनी मुहब्बत कहां से आई है उसके लिये;
कि मेरा दिल भी उसकी खातिर मुझसे रूठ जाता है......####

***************************

ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्रो-करार;
बेक़रारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो न थी......####

***************************

​मोहब्बत के बाद मोहब्बत मुमकिन तो है;
पर टूट कर चाहना सिर्फ एक बार होता है​......####

***************************

​हज़ार चेहरों में उसकी मुशाहबतें मिले मुझ को;
पर दिल की ज़िद थी अगर वो नहीं तो उस जैसा भी नहीं......####

***************************

तोड़ कर देख लिया आईना-ए-दिल तूने;​
तेरी सूरत के सिवा और बता क्या निकला​......####

***************************

​उससे कहो के मेरी सजा को कुछ कम कर दे;
मैं आदि मुजरिम नहीं हूँ गलती से इश्क हुआ था......####

***************************

मेरे इन होंठों पर तेरा नाम अब भी है;
भले छीन ली तुमने मुस्कुराहट हमारी......####


****************************

हमारे प्यार का यूँ इम्तिहान ना लो;
करके बेरुखी मेरी तुम जान ना लो;
एक इशारा कर दो हम खुद मर जाएंगे;
हमारी मौत का खुद पर इल्ज़ाम ना लो......####

***************************

चाहने वाले की जानता है अजमत कोई-कोई;
दिल से करता है आज मोहब्बत कोई-कोई;
मोहब्बत में चाहते हैं सब अशूक यार;
दीवाने की माफिक चाहे तुरबत कोई-कोई......####

***************************

कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी;
​चंद सिक्कों के लिए तुने क्या नहीं खोया है;​
माना नहीं है मखमल का बिछोना मेरे पास;
पर तु ये बता, कितनी राते चैन से सोया है......####

***************************

तुम राह में चुप-चाप खड़े हो तो गए हो;
किस-किस को बताओगे घर क्यों नहीं जाते......####

***************************

अगर इश्क़ गुनाह है गुनाहगार है खुदा;
जिसने बनाया दिल किसी पर आने के लिए......####

***************************

मोहब्बत की हद्द है सितारों से आगे;
प्यार का जहाँ है बहारों से आगे;
वो दीवानों की कश्ती जब बहने लगी;
तो बहते बह गई किनारों से आगे......####

***************************

कहते हैं लोग खुदा की इबादत है;
ये मेरी समझ में तो एक जहालत है;
चैन न आए दिल को, रात जाग के गुजरे;
जरा बताओ दोस्तों क्या यही मोहब्बत है......####

***************************

है इश्क़ की मंज़िल में हाल के जैसे;
लुट जाए कहीं राह में सामान किसी का......####

***************************

ना इश्क़ का इज़हार किया, ना ठुकरा सके हमें वो;
हम तमाम ज़िंदगी मज़लूम रहे, उनके वादा मोहब्बत के......####

***************************

एहसास के दामन में आंसू गिराकर देखो;
प्यार कितना है आजमा कर देखो;
तुम्हें भूल कर क्या होगी दिल की हालत;
किसी आईने पे पत्थर गिराकर तो देखो......####

************************

लोगों ने कहा तुम उसको याद क्यों करते हो;
जो तुम्हे याद ही नहीं करता;
तड़प कर दिल बोला;
मोहब्बत करने वाले कभी मुक़ाबला नहीं करते......####

***************************

​इश्क़ की बंदगी दी है तो हुस्न की इबादत जरूरी है;
इश्क़ से जीने की आस रहेगी और हुस्न से तड़प का सकून​......####

***************************

आँखों में इश्क़, लब पे ख़ामोशी;
अंदाज़ में इकरार, जिस्म में इंकार;
कहाँ जाएं मोहब्बत करने वाले;
एक तरफ जन्नत, दूसरी तरफ जहन्नुम......####

***************************

इश्क़ पर ज़ोर नहीं, यह वो आतिश ग़ालिब;
के लगाए ना लगे और बुझाए ना बुझे......####

***************************

ये इश्क़ के घाव बहुत गहरे है;
दर्द भी देते हैं और भरते भी नहीं......####

***************************

ना पूछ दिल की हक़ीक़त मगर ये कहता है;
वो बेक़रार रहे जिसने बेक़रार किया......####

***************************

वो मेरे दिल पर सिर रखकर सोई थी बेखबर;
हमने धड़कन ही रोक ली कि कहीं उसकी नींद ना टूट जाए......####

***************************

आँसू आ जाते हैं आँखों में;
पर लबों पर हंसी लानी पड़ती है;
ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो;
जिस से करते हैं उसी से छुपानी पड़ती है......####

***************************

​रिश्तों का धागा इतना कच्चा नहीं होता;
किसी का दिल तोड़ना अच्छा नहीं होता;
प्यार तो दिल की आवाज़ है;
कौन कहता है एक तरफ़ का प्यार सच्चा नहीं होता​......####

***************************

कितना प्यार है उनसे काश वो ये जान लें;
वो ही है ज़िंदगी मेरी ये बात मान लें;
उनको देने को नहीं कुछ पास हमारे;
बस एक जान है हमारी जब चाहे मांग लें......####

**************************

जिनको हमने चाहा मोहब्बत की हदें तोड़ कर;
आज उसने देखा नहीं निगाह मोड़ कर;
ये जान कर बहुत दुःख हुआ मुझे;
कि वो खुद भी तन्हा हो गये मुझे छोड़ कर......####

***************************

ऐ मोहब्बत, तुझे पाने की कोई राह नहीं;
तू तो उसे ही मिलेगी, जिसे तेरी परवाह नहीं......####

***************************

कसूर ना उनका था ना हमारा;
हम दोनों ही रिश्तों की रसम निभाते रहे;
वो दोस्ती का एहसास जताते रहे;
और हम मोहब्बत को दिल में छुपाते रहे​......####

***************************

वो खुदा था मेरा अब मेरा ईमान है; ​​
चला गया छोड़ कर, इसलिए दिल उदास है;
बेवफा नही कहूंगा ​मैं उसको;
क्यूंकी इश्क़ करना उसका मुझ पर अहसान है......####

***************************

प्यार में कोई तो दिल तोड़ देता है;
दोस्ती मेँ कोई तो भरोसा तोड़ देता है;
जिंदगी जीना तो कोई गुलाब से सीखे;
जो खुद टूट कर दो दिलों को जोड़ देता है......####

***************************

कैसा सितम है आपका यह कि रोने भी नहीं देता;
करीब आते नहीं और खुद से जुदा होने भी नहीं देता......####

***************************

जिस तरह रगों में खून रहता है;
इस तरह तेरी चाहत का जुनून रहता है;
ज़िंदगी की हर ख़ुशी मंसूब है तुमसे;
बात हो तुमसे तो दिल को सुकून रहता है......####

***************************

अब भी आता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ;
लोग जल जल कर ख़ाक हुए जाते हैं;
उड़ता है दिल से जैसे धुआँ;
बस वो छूने से ही राख हुए जाते है......####

***************************

हाँ! मुझे रस्म-ए-मोहब्बत का सलीक़ा ही नहीं;
जा! किसी और का होने की इजाज़त है तुझे......####

***************************

तलब करे तो मैं अपनी आँखें भी उन्हें देदू;
मगर ये लोग मेरी आँखों के ख्वाब मांगते हैं......####

************************

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं;
दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं;
नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर;
फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं......####

***************************

कहते हैं ग़ज़ल क़ाफ़िया-पैमाई है नासिर;
ये क़ाफ़िया-पैमाई ज़रा कर के तो देखो......####

***************************
   
बेवजह हम वजह ढूंढ़ते हैं तेरे पास आने को;
ये दिल बेकरार है तुझे धड़कन में बसाने को;
बुझी नहीं प्यास इन होंठों की अभी;
न जाने कब मिलेगा सुकून तेरे इस दीवाने को......####

***************************

यूँ तो तमन्नाएं दिल में ना थी हमें लेकिन;
ना जाने तुझे देखकर क्यों आशिक़ बन बैठे;
बंदगी तो खुदा की भी करते थे लेकिन;
ना जाने क्यों हम काफ़िर बन बैठे......####

***************************

तुम बिन ज़िंदगी सूनी सी लगती है;
हर पल अधूरी सी लगती है;
अब तो इन साँसों को अपनी साँसों से जोड़ दे;
क्योंकि अब यह ज़िंदगी कुछ पल की मेहमान सी लगती है......####

***************************

तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे;
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे;
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो;
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे......####

***************************

हम फिर उनके रूठ जाने पर फ़िदा होने लगे;
फिर हमे प्यार आ गया जब वो ख़फ़ा होने लगे......####

***************************

संगमरमर के महल में तेरी ही तस्वीर सजाऊंगा;
मेरे इस दिल में ऐ प्यार तेरे ही ख्वाब सजाऊंगा;
यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा;
मैं तो प्यार का हूँ प्यासा जो तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा......####

***************************

तपिश से बच के घटाओं में बैठ जाते हैं;
गए हुए कि सदाओं में बैठ जाते हैं;
हम इर्द-गिर्द के मौसम से घबरायें;
तेरे ख्यालों की छाओं में बैठ जाते हैं......####

**********************

हम जानते तो इश्क़ न करते किसी के साथ;
ले जाते दिल को ख़ाक में इस आरज़ू के साथ......####

***************************

इश्क़ का शुक्रिया कुछ इस तरह अदा करूँ;
आप भूल भी जाओ तो मैं हर पल याद करूँ;
इस इश्क़ ने बस इतना सिखाया है मुझे;
कि खुद से पहले आपके लिए दुआ करूँ......####

***************************

मुझे भी अब नींद की तलब नहीं;
अब रातों को जागना अच्छा लगता है;
पता नहीं वो मेरी तकदीर में है कि नहीं;
पर उसे खुदा से माँगना अच्छा लगता है......####

***************************

यूँ तो तमन्ना दिल में ना थी लेकिन;
ना जाने तुझे देखकर क्यों आशिक बन बैठे;
बंदगी तो खुदा की भी करते थे लेकिन;
ना जाने क्यों हम काफ़िर बन बैठे......####

***************************

तू कहीं हो दिल-ए-दीवाना वहाँ पहुँचेगा;
शमा होगी जहाँ परवाना वहाँ पहुँचेगा......####

***************************

ये चांदनी रात बड़ी देर के बाद आयी;
ये हसीं मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी;
आज आये हैं वो मिलने को बड़ी देर के बाद;
आज की ये रात बड़ी देर के बाद आयी......####

***************************

ऐसा क्या कह दूं कि तेरे दिल को छू जाए;
ऐसी किससे दुआ मांगू कि तू मेरी हो जाए;
तुझे पाना नहीं तेरा हो जाना है मन्नत मेरी;
ऐसा क्या कर दूं कि ये मन्नत पूरी हो जाए......####

***************************

तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी;
एक हम है कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे......####

***************************

हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं;
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं......####

***************************

आपके बिन टूटकर बिखर जायेंगे;
मिल जायेंगे आप तो गुलशन की तरह हम खिल जायेंगे;
अगर न मिले आप तो जीते जी मर जायेंगे;
पा लिया जो आपको तो मर कर भी जी जायेंगे......####

************************

तेरी आवाज़ की शहनाइयों से प्यार करते हैं;
तस्सवुर मैं तेरे तन्हाइयों से प्यार करते हैं;
जो मेरे नाम से तेरे नाम को जोड़े ज़माने वाले;
उन चर्चों से अब हम प्यार करते हैं......####

***************************

कोई तीर जैसे जिगर के पार हुआ है;
जाने क्यों दिल इतना बेक़रार हुआ है;
पहले कभी देखा न मैंने तुम्हें;
फिर भी क्यों ऐ अजनबी इस कदर तुमसे प्यार हुआ है......####

***************************

आँखें मुझे तलवे से मलने नहीं देते;
अरमान मेरे दिल के निकलने नहीं देते;
खातिर से तेरी याद को टलने नहीं देते;
सच है कि हमीं दिल को संभलने नहीं दते;
किसी नाज़ से कहते हैं झुंझला के शब-ए-वस्ल;
तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते......####

***************************

वो लाख तुझे पूजती होगी मगर तू खुश न हो ऐ खुदा;
वो मंदिर भी जाती है तो मेरी गली से गुजरने के लिए......####

***************************

मैंने अपनी हर एक सांस तुम्हारी गुलाम कर रखी है;
लोगो में ये ज़िन्दगी बदनाम कर रखी है;
अब ये आइना भी किस काम का मेरे;
मैंने तो अपनी परछाई भी तुम्हारे नाम कर रखी है......####

***************************

सपनों की दुनिया में हम खोते चले गए;
मदहोश न थे पर मदहोश होते चले गए;
ना जाने क्या बात थी उस चेहरे में;
ना चाहते हुए भी उसके होते चले गए......####

***************************

आरज़ू वस्ल की रखती है परेशाँ क्या क्या;
क्या बताऊँ कि मिरे दिल में हैं अरमाँ क्या क्या;
ग़म अज़ीज़ों का हसीनों की जुदाई देखी;
देखें दिखलाए अभी गर्दिश-ए-दौराँ क्या क्या......####

***************************

जब कभी टूट कर बिखरो तो बताना हमको;
हम तुम्हें रेत के जर्रों से भी चुन सकते हैं......####

***************************

क्या इश्क़ एक ज़िंदगी-ए-मुस्तआर का;
क्या इश्क़ पाएदार से ना-पाएदार का;
वो इश्क़ जिस की शमा बुझा दे अजल की फूँक;
उस में मज़ा नहीं तपिश-ओ-इंतिज़ार का......####

***************************

अजब अपना हाल होता जो वस्ल-ए-यार होता;
कभी जान सदके होती कभी दिल निसार होता;
कोई फ़ित्ना या क़यामत न फिर अश्कार होता;
तेरे दिल पे ज़ालिम काश मुझे इख़्तियार होता......####

********************

ऊपर से गुस्सा दिल से प्यार करते हो;
नज़रें चुराते हो दिल बेक़रार करते हो;
लाख़ छुपाओ दुनिया से मुझे ख़बर है;
तुम मुझे ख़ुद से भी ज्यादा प्यार करते हो......####

***************************

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो;
नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें;
अब न वो मैं हूं न तू है न वो माज़ी है 'फ़राज़'
जैसे दो साये तमन्‍ना के सराबों में मिलें......####

***************************

SMS Shayari in Hindi,good morning sms shayari in hindi,sms shayari in hindi 140 words for friends,dosti sms shayari in hindi,funny sms shayari in hindi,sms shayari in hindi 140 words,sad sms shayari in hindi,love sms shayari in hindi,sms shayari in hindi 120 words.

No comments:

Post a Comment