Dil Shayari @ दिल शायरी 1


बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का
जो चीरा तो इक क़तरा-ए-ख़ूँ न निकला

*****************************

Bada shor sunte the pahloo mein dil ka
Jo cheera to ik qatra-e-khoon na nikala

*****************************

शाम से कुछ बुझा सा रहता है
दिल हुआ है चराग़ मुफ़लिस का

*****************************

Shaam se kuchh bujha sa rehta hai
Dil hua hai charaag muflis ka

*****************************

सीने में इक खटक सी है और बस
हम नहीं जानते कि क्या है दिल

*****************************

Seene mein ik khatak si hai aur bas
Ham nahin jaante ki kya hai dil

*****************************


अनहोनी कुछ ज़रूर हुई दिल के साथ आज
नादान था मगर ये दिवाना कभी न था

*****************************

Anhoni kuchh jarur hui dil ke saath aaj
Nadaan tha magar ye deewana kabhi na tha

*****************************

किस ढिटाई से वो दिल छीन के कहते हैं अमीर
वो मिरा घर है रहे जिस में मोहब्बत मेरी

*****************************

Kis dhitaai se wo dil chhin ke kehate hai Ameer
Wo mira ghar hai rahe jis mein mohabbat meri

*****************************

क्यूँ मलामत इस क़दर करते हो बे-हासिल है ये
लग चुका अब छूटना मुश्किल है उस का दिल है ये

*****************************

Kyun malaamat is kadar karte ho be-haasil hai ye
Lag chuka ab cchutna mushqil hai us ka dil hai ye

*****************************

काबा सौ बार वो गया तो क्या
जिस ने याँ एक दिल में राह न की

*****************************

Kaba sau baar gaya to kya
Jis ne yaan ek dil mein raah na ki

*****************************

आप के पाँव के नीचे दिल है
इक ज़रा आप को ज़हमत होगी

*****************************

Aap ke paanv ke neeche dil hai
Ik zara aap ko jahmat hogi

*****************************

किसू से दिल नहीं मिलता है या रब
हुआ था किस घड़ी उन से जुदा मैं

*****************************

Kisu se dil nahin milta hai ya rab
Hua tha kis ghadi un se juda main

*****************************

किसी को दे के दिल कोई नवा-संज-ए-फ़ुग़ाँ क्यूँ हो
न हो जब दिल ही सीने में तो फिर मुँह में ज़बाँ क्यू हो

*****************************

Kis ko de ke dil koi nawa-sanz-e-fugaa kyun ho
Na ho jab dil seene mein to munh mein jabaan kyu ho

*****************************

कौन सी बात नई ऐ दिल-ए-नाकाम हुई
शाम से सुब्ह हुई सुब्ह से फिर शाम हुई

*****************************

Kaun si baat nai ae dil-e-naakaam hui
Shaam se subah hui subah se phir shaam hui

*****************************

खो के दिल मेरा तुम्हें नाहक़ पशीमानी हुई
तुम से नादानी हुई या मुझ से नादानी हुई

*****************************

Kho ke dil mera tumhein naahak pasheemani hui
Tum se naadaani hui ya mujh se naadaani hui

*****************************

घर ग़ैर के जो यार मिरा रात से गया
जी सीने से निकल गया दिल हात से गया

*****************************

Ghar gair ke jo yaar mira raat se gaya
Jee seene se nikal gaya dil haath se gaya

*****************************


तअज्जुब क्या लगी गर आग ऐ ‘सीमाब’ सीने में
हज़ारों दिल में अँगारे भरे थे लग गई होगी

*****************************

Tajjub kya lagi gar aag ae ‘Seemaab’ seene mein
Hazaaron dil mein angaare bhare the lag gai hogi

*****************************

तड़पती देखता हूँ जब कोई शय
उठा लेता हूँ अपना दिल समझ कर

*****************************

Tadpati dekhta hun jab koi shay
Utha leta hoon apna dil samajh ke

*****************************

देख तो दिल कि जाँ से उठता है
ये धुआँ सा कहाँ से उठता है

*****************************

Dekh to dil ki jaan se uthta hai
Ye dhuaa sa kahan se uthta hai

*****************************

देखा मुझे तो तर्क-ए-तअल्लुक़ के बावजूद
वो मुस्कुरा दिया ये हुनर भी उसी का था

*****************************

Dekh mujhe to tarq-e-talluk ke baawjood
Wo muskura diya ye hunar bhi usi ka tha

*****************************

दूर ख़ामोश बैठ रहता हूँ
इस तरह हाल दिल का कहता हूँ

*****************************

Door khaamosh baith rehata hun
Is tarah haal dil ka kehata hun

*****************************

दाग़-ए-दिल से भी रौशनी न मिली
ये दिया भी जला के देख लिया

*****************************

Daag-e-dil se bhi roshani na mili
Ye diya bhi jala ke dekh liya

*****************************

दिया ख़ामोश है लेकिन किसी का दिल तो जलता है
चले आओ जहाँ तक रौशनी मालूम होती है

*****************************

Diya khaamosh hai lekin kisi ka dil to jalta hai
Chale jaao jahan tak roshani maaloom hoti hai

*****************************

दिल अगर दिल है तो वाबस्ता-ए-ग़म भी होगा
निकहत-ए-गुल भी कहीं गुल से जुदा रहती है

*****************************

Dil agar dil hai waabasta-e-gham bhi hoga
Nikhat-e-gul bhi kahin gul se juda hoti hai

*****************************

दिल के फफूले जल उठे सीने के दाग़ से
इस घर को आग लग गई घर के चराग़ से

*****************************

Dil ke fafoole jal uthe seene ke daag se
Is ghar ko aag lag gai ghar ke chiraag se

*****************************

दिल का क्या हाल कहूँ सुब्ह को जब उस बुत ने
ले के अंगड़ाई कहा नाज़ से हम जाते हैं

*****************************

Dil ka kya haal kyun subah ko jab us but ne
Le ke angadaai kaha naaj se ham jaate hain

*****************************

41दिल है किस का जिस में अरमाँ आप का रहता नहीं
फ़र्क़ इतना है कि सब कहते हैं मैं कहता नहीं

*****************************

Dil hai kis ka jis mein armaa aap ka rehata nahin
Farq itna hai ki sab kehate hain main kehata nahin

*****************************

दिल ही तो है न आए क्यूँ दम ही तो है न जाए क्यूँ
हम को ख़ुदा जो सब्र दे तुझ सा हसीं बनाए क्यूँ

*****************************

Dil hi to hai na aaye kyun dam hi to hai na jaaye kyun
Ham ko khuda jo sabr de tujh sa haseen banaaye kyun

*****************************

दिल की बर्बादियों पे नाज़ाँ हूँ
फ़तह पा कर शिकस्त खाई है

*****************************

Dil ki barbaadiyon pe naajaa hun
Fatah paa kar shikast khaai hai

*****************************

दिल ख़ुश हुआ है मस्जिद-ए-वीराँ को देख कर
मेरी तरह ख़ुदा का भी ख़ाना ख़राब है

*****************************

Dil khush hua hai maszid-e-veera ko dekh kar
Meri tarah khuda ka bhi khaana kharaab hai

*****************************

दिल गया रौनक़-ए-हयात गई
ग़म गया सारी काएनात गई

*****************************

Dil gaya raunak-e-hayat gayi
Gham gaya saari kaaynaat gayi

*****************************

दिल गवारा नहीं करता है शिकस्त-ए-उम्मीद
हर तग़ाफ़ुल पे नवाज़िश का गुमाँ होता है

*****************************

Dil gawaara nahin karta hai shikst-e-ummeed
Har tagaaful pe nawaajish ka gumaan hota hai

*****************************

दिल धड़कता है शब-ए-ग़म में कहीं ऐसा न हो
मर्ग बन कर भी मिज़ाज-ए-यार तरसाए मुझे

*****************************

Dil dhadkta hai shab-e-gham mein kahin aesa na ho
Marg ban kar bhi mijaaj-e-yaar tarsaaye mujhe

*****************************

दिल ले के उन की बज़्म में जाया न जाएगा
ये मुद्दई बग़ल में छुपाया न जाएगा

*****************************

Dil le ke un ki bajm mein jaaya na jaayega
Ye muddai bagal mein chhupaaya na jaayega

*****************************

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है

*****************************

Dil se jo baat nikalti hai asar rakhti hai
Par nahin taakat-e-parwaaz magar rakhti hai

*****************************

दिल से मिटना तिरी अंगुश्त-ए-हिनाई का ख़याल
हो गया गोश्त से नाख़ुन का जुदा हो जाना

*****************************

Dil se mitna tiri agusht-e-hinaai ka khyaal
Ho gaya gosht se naakhun ka juda ho jaana

*****************************

तुम्हारा दिल मिरे दिल के बराबर हो नहीं सकता
वो शीशा हो नहीं सकता ये पत्थर हो नहीं सकता

*****************************

Tumhaara dil mere dil ke baraabar ho nahin sakta
Wo sheesha ho nahin sakta ye patthar ho nahin sakta

*****************************

दिल को तिरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है
और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता

*****************************

Dil ko tiri chaahat pe bharosa bhi bahut hai
Aur tujh se bichhad jaane ka dar bhi nahin jaata

*****************************

जो निगाह-ए-नाज़ का बिस्मिल नहीं
दिल नहीं वो दिल नहीं वो दिल नहीं

*****************************

Jo nigaah-e-naaz ka bismil nahin
Dil nahin wo dil nahin wo dil nahin

*****************************

दिल की बिसात क्या थी निगाह-ए-जमाल में
इक आइना था टूट गया देख-भाल में

*****************************

Dil ki bisaat kya thi nigaah-e-jamaal mein
Ik aaina tha toot gaya dekh-bhaal mein

*****************************

दिल की वीरानी का क्या मज़कूर है
ये नगर सौ मर्तबा लूटा गया

*****************************

Dil ki veerani ka kya majkoor hai
Ye nagar sau martba luta gaya

*****************************

दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ़ तो हुई
लेकिन तमाम उम्र को आराम हो गया

*****************************

Dil tootne se thodi si taklif to hui
Leqin Tamaam umar ko araam ho gaya

*****************************

आप पहलू में जो बैठें तो सँभल कर बैठें
दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की

*****************************

Aap pahloo mein jo baithein to sambhal kar baithe
Dil-e-betaab ko aadat hai machal jaane ki

*****************************

उल्टी हो गईं सब तदबीरें कुछ न दवा ने काम किया
देखा इस बीमारी-ए-दिल ने आख़िर काम तमाम किया

*****************************

Ulti ho gai sab tadbeerein kuchh na dawa ne kaam kiya
Dekha is beemari-e-dil ne aakhir kaam tamaam kiya

*****************************

ग़म वो मय-ख़ाना कमी जिस में नहीं
दिल वो पैमाना है भरता ही नहीं

*****************************

Gham wo may-khana kami jis mein nahin
Dil wo paimaana hai bharta hi nahin

*****************************

बुत-ख़ाना तोड़ डालिए मस्जिद को ढाइए
दिल को न तोड़िए ये ख़ुदा का मक़ाम है

*****************************

But-khana tod daaliye Maszid ko dhaaiye
Dil ko na todiye ye khuda ka maqaam hai

*****************************


हम ने सीने से लगाया दिल न अपना बन सका
मुस्कुरा कर तुम ने देखा दिल तुम्हारा हो गया

*****************************

Ham ne seene se lagaayadil na apna ban saka
Muskura kar tum ne dekha dil tumhaara ho gaya

*****************************

दिल दे तो इस मिज़ाज का परवरदिगार दे
जो रंज की घड़ी भी ख़ुशी से गुज़ार दे

*****************************

Dil de to is mizaaz ka parvardigaar de
Jo anz ki ghadi bhi khushi se gujaar de

*****************************

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे

*****************************

Accha hai dil ke saath rahe paasbaan-e-akl
Leqin kabhi-kbhi ise tanha bhi chhod de

*****************************

अर्ज़ ओ समा कहाँ तिरी वुसअत को पा सके
मेरा ही दिल है वो कि जहाँ तू समा सके

*****************************

Arj o sama kahan tiri vusat ko paa sake
Mera hi dil hai wo ki jahan tu sama sake

*****************************

आदम का जिस्म जब कि अनासिर से मिल बना
कुछ आग बच रही थी सो आशिक़ का दिल बना

*****************************

Aadam ka jism jab ki anaasir se mil bana
Kuchh aag bach rahi thi so aashiq ka dil bana

*****************************

दिल दिया जिस ने किसी को वो हुआ साहिब-ए-दिल
हाथ आ जाती है खो देने से दौलत दिल की

*****************************

Dil diya jis ne kisi ko wo hua saahib-e-dil
Haath aa jaati hai kho dene se daulat dil ki

*****************************

दिल ही तो है न संग ओ ख़िश्त दर्द से भर न आए क्यूँ
रोएँगे हम हज़ार बार कोई हमें सताए क्यूँ

*****************************

Dil hi to hai na sang o khist dard se bahr na aay kyun
Royenge ham hazaar baar koi hamein sataay kyun

*****************************

No comments:

Post a Comment