Dil Shayari@दिल शायरी 2



शहर में लगता नहीं सहरा में घबराता है दिल
अब कहाँ ले जा के बैठें ऐसे दीवाने को हम

****************************

Shehar mein lagta nahin sahara mein ghabratahai dil
Ab kahan le jaa ke baithein aese deewane ko ham

****************************

शायद मुझे निकाल के पछता रहे हों आप
महफ़िल में इस ख़याल से फिर आ गया हूँ मैं

****************************

Shaayad mujhe nikaal me pachhta rahe ho aap
Mahfil mein is khyaal se phir aa gaya hun main

****************************

शीशा टूटे ग़ुल मच जाए
दिल टूटे आवाज़ न आए

****************************

Sheesha toote gul mach jaaye
Dil toote aawaz na aaye

****************************

सीने में इक खटक सी है और बस
हम नहीं जानते कि क्या है दिल

****************************

Seene mein ik khatak si hai aur bas
Ham nahin jaante ki kya hai dil

****************************

हम ने पाला मुद्दतों पहलू में हम कोई नहीं
तुम ने देखा इक नज़र से दिल तुम्हारा हो गया

****************************

Hum ne paala muddaton pehalu mein ham koi nahin
Tum ne dekha ik nazar se dil tumhaara ho gaya

****************************

हज़रत-ए-दिल आप हैं किस ध्यान में
मर गए लाखों इसी अरमान में

****************************

Hazrat-e-dil aap hain kis dhyaan mein
Mar gaye laakhon isi armaan mein

****************************

सौदा जहाँ में आ के कोई कुछ न ले गया
जाता हूँ एक मैं दिल-ए-पुर-आरज़ू लिए

****************************

Sauda jahan mein aa ke koi kuchh na le gaya
Jaata hun ek main dil-e-pur-aarjoo liye

****************************

हमारे शीशा-ए-दिल को सँभल कर हाथ में लेना
नज़ाकत इस में इतनी है नज़र से जब गिरा टूटा

****************************

Humaare sheesha-e-dil ko sambhal kar haath mein lena
Nazaakat is mein itni hai nazar se jab gira toota

****************************

होता है मिरे दिल में हसीनों का गुज़र भी
इक अंजुमन-ए-नाज़ है अल्लाह का घर भी

****************************

Hota hai mire dil mein haseenon ka gujar bhi
Ik anjuman-e-naaz hai allah ka ghar bhi

****************************

अहले-जुबाँ तो हैं बहुत
कोई नहीं है अहले-दिल

****************************

Ahle-jubaan to hai bahut
Koi nahin hai ahle-dil

****************************

आँख उठाकर भी न देखूँ, जिससे मेरा दिल न मिले
रस्मन सबसे हाथ मिलाना, मेरे बस की बात नहीं

****************************

Aankh uthaakar bhi na dekhun, jisse mera dil na mile
Rasman sabse haath milana, mere bas ki baat nahin

****************************

आज है किस मंजिल पै इंसान
दिल में अंधेरा, रूख पै उजाले

****************************

Aaj hai kis manzil pe insan
Dil mein andhera, rukh pe ujaale

****************************

इन्ही में खींचकर रूहे-मुहब्बत मैने भरे हैं
मेरा अश्यार देखेंगे मेरा दिल देखने वाले

****************************

Inhi mein kheechkar roohe-muhabbat maine bhare hain
Mera ashyaar dekhenge mera dil dekhne waale

****************************

उस आदमी को सौंप दूँ दुनिया का कारोबार
जिस आदमी के दिल में कोई मुद्दआ न हो

****************************

Us adami ko saup dun duniya ka kaarobaar
Jis adami ke dil mein koi mudda na ho

****************************

प्रसिद्ध शायरों की शायरियों का विशाल संग्रह
प्रसिद्ध शायरों की ग़ज़लों का विशाल संग्रह

****************************

एक से लगते हैं सब ही कौन अपना, कौन गैर
बेनकाब आये कोई तो, हम दरे–दिल वा करें

****************************

Ek se lagte hain sab hi kaun apna, kaun gair
Benqaab aaye koi to, ham dare-dil wa karein

****************************

एक हमें आवारा कहना, कोई बड़ा इल्जाम नहीं
दुनिया वाले दिल वालों को और बहुत कुछ कहते हैं

****************************

Ek hamein aawara kehana, koi bada ilzaam nahin
Duniya waale dil waalon ko aur bahut kuchh kehate hai

****************************

ऐ मौत आ के हमको खामोश तो कर गई तू
मगर सदियों दिलों के अंदर, हम गूंजते रहेंगे

****************************

Ae maut aa ke humko khamosh to kar gai tu
Magar sadiyon dilon ke andar, ham gunjte rahenge

****************************

कम न थी ये आलमे –हस्ती किसी सूरत मगर
वुसअतें दिल की बढ़ीं इतनी कि ज़िन्दां हो गयीं

****************************

Kam na thi ye aalam-e-hasti kisi surat magar
Wusatein dil ki badhi itani ki zinda ho gayi

****************************

कहते हैं उन्हीं को दुश्मने-दिल, है नाम उन्हीं का नासेह भी
वे लोग जो रह कर साहिल पर, तूफान की बातें करते हैं

****************************

Kehate hain unhin ko dushman-e-dil, hain naam unhin ka naaseh bhi
We log jo rah kar saahil par, toofan ki baatein karte hain

****************************

कहाँ दूर हट के जायें, हम दिल की सरजमीं से
दोनों जहां की सैरें, हासिल है सब यहीं से

****************************

Kahan door hat ke jaayein , ham dil ki sarzameen se
Dono jahan ki sairein haasil hai sab yahin se

****************************

क्या लाए हो खुलूसे-मुहब्बत, खुलूसे-दिल
इस जीन्स का तो कोई भी खरीदार नहीं है

****************************

Kya laaye ho khuloose-muhbbat, khuloose-dil
Is jeens ka to koi bhi khareedaar nahin hai

****************************

खुलूसे-दिल से पुकारे जो एक बार मुझे
उस आदमी का है, अभी तक इन्तजार मुझे

****************************

Khuloose-dil se pukare jo ek baar mujhe
Au adami ka hai, abhi tak intzaar mujhe

****************************

जबान दिल की हकीकत का क्या बयां करती
किसी का हाल, किसी से कहा नहीं जाता

****************************

Jabaan dil ki haqeeqat ka kya bayaan karti
Kisi ka haal kisi se kaha nahin jaata

****************************

जहाँ सिज्दे को मन आया वहीं पर लिया सिज्दा
न कोई संगे – दर अपना न कोई आस्तां अपना

****************************

Jahan sizde ko man aaya wahin par liya sizda
Na koi sange-dar apna na koi aastaan apna

****************************

मेरे लबों का तबस्सुम तो सबने देख लिया
जो दिल पे बीत रही है वो कोई क्या जाने

****************************

Mere Labon ka tabssum to sabne dekh liya
Jo dil pe beet rahi hai wo koi kya jaane

****************************

लुत्फे – बहार कुछ नहीं गो है वही बहार
दिल क्या उजड़ गया कि जमाना उजड़ गया

****************************

Lufte-bahaar kuchh anhin go hai wahi bahaar
Dil kya ujad gaya ki zamaana ujad gaya

****************************

सुकूने -दिल जहाने – बेशोकम में ढूढ़ने वाले
यहां हर चीज मिलती है सुकूने-दिल नहीं मिलता

****************************

Sukoone-dil zahaane-beshokam mein dhoondne waale
Yahn har cheez milti hai sukoone-dil nahin milta

****************************

हम अपने दिल के मुकामात से हैं बेगाने
इसी में वरना हरम है, इसी में बुतखाने

****************************

Ham apne dil ke mukaamaat se hain begaane
Isi mein warna haram hai, isi mein butkhaane

****************************

फूल चुनना भी अबस, सैरे-बहारां भी अबस
दिल का दामन ही जो कांटों से बचाया न गया

****************************

Phool chunna bhi abas, sair-e-bahaaran bhi abas
Dil ka daaman hi jo kaanton se bachaaya na gaya

****************************

भले ही कोई ताजमहल न बनवा सके
मुमताज तो हर दिल में बसा करती है

****************************

Bhale hi koi taajmahal na banwa sake
Mumtaaj to har dil mein basa karti hai

****************************

दिल के लिये हयात का पैगाम बन गईं
बैचैनियाँ सिमट के तेरा नाम बन गईं

****************************

Dil ke liye hayaat ka pigaam ban gai
Baicheniyan simat ke tera naam ban gai

****************************

दिल को बर्बाद किये जाती है गम बदस्तूर किये जाती है
मर चुकीं सारी उम्मीदें, आरजू है कि जिये जाती है
(बदस्तूर  =   पहले की तरह, यथावत, यथापूर्व)

****************************

Dil ko barbaad kiye jaati hai gham badstur kiye jaati hai
Mar chuki saari ummeedein, aarjoo hai ki jiye jaati hai

****************************

ईमां गलत, उसूल गलत, इद्देआ गलत
इन्सां की दिलदेही अगर इन्सां न कर सके

****************************

Dil SImaan galat, usool galat, iddeaa galat
Insaan ki dildehi agar insaan na kar sake

****************************

खुलूसे-दिल से हो सिज्दे तो उन सिज्दों का क्या कहना
सरक आया वहीं काबा , जहां हमने जबीं रख दी

****************************

Khuloose-dil se ho sizde to un sizdeon ka kya kehana
Sarak aaya wahin kaaba, jahan hamne jabeen rakh di

****************************

जहाने-रंगो-बू में क्यों तलाशे-हुस्न हो मुझको
हजारों जलवे रख्शिंदा है मेरे दिल के पर्दे में

****************************

Zahan-e-rag-o-boo mein kyon talaash-e-husn ho mujhko
Hazaaron jalwe rakhshinda hai mere dil ke parde mein

****************************


51दिल-ए-वहशी को ख़्वाहिश है तुम्हारे दर पे आने की
दिवाना है व-लेकिन बात करता है ठिकाने कीजुरअत क़लंदर बख़्श

****************************

Dil-e-wahshi ko kjwaahish hai tumhaare dar pe aane ki
Deewana hai wo lekin baat karta hai thikaane ki

****************************

दिल-जलों से दिल-लगी अच्छी नहीं
रोने वालों से हँसी अच्छी नहीं

****************************

Dil-jalon se dil-lagi achhi nahin
Rone waalo se hansi acchhi nahin

****************************

नज़राना तेरे हुस्न का क्या दें कि अपने पास
ले दे के एक दिल है सो टूटा हुआ सा है

****************************

Nazraana tere husn ka kya dein ki apne paas
Le de ke ek dil hai so toota hua sa hai

****************************

बुझ रहे हैं चराग़-ए-दैर-ओ-हरम
दिल जलाओ कि रौशनी कम है

****************************

Bujh rahe hain charaag-e-dair-o-haram
Dil jalaao ki raushni kam hai

****************************

बेताबियाँ समेट के सारे जहान की
जब कुछ न बन सका तो मेरा दिल बना दिया

****************************

Betaabiyaan samet ke saare jahaan ki
Jab kuchh na ban saka to mera dil bana diya

****************************

बुतों में कोई भलाई भी है सिवाए सितम
बुरा हो तेरा दिल-ए-ना-सज़ा किधर आया

****************************

Buton mein koi bhalaai bhi hai siwaay sitam
Bura ho tera dil-e-naa-saza kidhar aaya

****************************

बदला हुआ है आज मिरे आँसुओ का रंग
क्या दिल के ज़ख़्म का कोई टाँका उधड़ गया

****************************

Badala hua hai aaj mire aansuon ka rang
Kya dil ke jkhm ka koi taanka udhad gaya

****************************

बाग़ में लगता नहीं सहरा से घबराता है दिल
अब कहाँ ले जा कि बैठें ऐसे दीवाने को हम

****************************

Baag mein lagta nahin sehara se ghabraata hai dil
ab kahan le jaa ke baithen aese deewane ko ham

****************************

मैं जाता हूँ दिल को तिरे पास छोड़े
मिरी याद तुझ को दिलाता रहेगा

****************************

Main jaata hun dil ko tire paas chhode
Miri yaad tujh ko dilaata rahega

****************************

यूँ तसल्ली दे रहे हैं हम दिल-ए-बीमार को
जिस तरह थामे कोई गिरती हुई दीवार को

****************************

Yun taslli de rahe hain ham dil-e-beemar ko
Jis tarah thaame koi girti hui deewar ko

****************************

ये तो नहीं कि तुम सा जहाँ में हसीं नहीं
इस दिल को क्या करूँ ये बहलता कहीं नहीं

****************************

Ye to nahin ki tum sa jahn mein haseen nahi
Is dil ko kya karun ye behalta kahin nahin

****************************

यूँ मेरे साथ दफ़्न दिल-ए-बे-क़रार हो
छोटा सा इक मज़ार के अंदर मज़ार हो

****************************

Yum mere saath dafn dil-e-be-karaar ho
Chhota sa ik majaar ke andar majaar ho

****************************

लाख देने का एक देना था
दिल-ए-बे-मुद्दआ दिया तू ने
(दिल-ए-बे-मुद्दआ  =  बिना इच्छा का दिल)

****************************

Laakh dene ka ek dena tha
Dil-e-be-mudda diya tu ne

****************************

लाखों में इंतिख़ाब के क़ाबिल बना दिया
जिस दिल को तुम ने देख लिया दिल बना दिया

****************************

Laakhon mein intikhaab ke qaabil bana diya
Jis dil ko tumne dekh liya dil bana diya

****************************

वक़्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमाँ
हम अभी से क्या बताएँ क्या हमारे दिल में है

****************************

Waqt aane par bata denge tujhe ae aasmaan
Ham abhi se kya bataayen kya humaare dil mein hai

****************************

वादा झूटा कर लिया चलिए तसल्ली हो गई
है ज़रा सी बात ख़ुश करना दिल-ए-नाशाद का

****************************

Wada jhuta kar liya chaliye taslli ho gai
Hai jara si baat khush karna dil-e-naashaad ka

****************************

No comments:

Post a Comment