Dosti Shayari@दोस्ती शायरी



शिद्दत-ए-दरद से शर्मिंदा नहीं मेरी वफा “फराज़”
दोस्त गहरे हैं तो फिर जख्म भी गहरे होंगे................$$$$

****************************

Shiddat-E-Dard se sharminda nahi meri wafa “Faraz”,
Dost gehrey hain to phir zakham bhi gehre honge................$$$$

****************************

दोस्तों से आज मुलाक़ात की शाम है
ये सज़ा काट के फिर अपने घर को जाऊँगा................$$$$

****************************

Doston se aaj mulakat ki shaam hai
Ye saza kaat ke phir apne ghar ko jaaunga................$$$$

****************************

हटाये थे जो राह से दोस्तों की
वो पत्थर मेरे घर में आने लगे हैं................$$$$

****************************

Hataaye the jo raah se doston ki
Wo patthar mere ghar mein aane lage hain................$$$$

****************************

साफ़ कब इम्तिहान लेते हैं वो तो दम देके जान लेते हैं
ज़िद हर एक बात में नहीं अच्छी दोस्त की दोस्त मान लेते हैं................$$$$

****************************

Saaf kab imtihaan lete hain wo to dam deke jaan lete hain
Zid har ek baat mein nahin acchhi dost ki dost maan lete hai................$

****************************

मैं मुद्दतों जिया हूँ किसी दोस्त के बग़ैर
अब तुम भी साथ छोड़ने को कह रहे हो ख़ैर................$$$$

****************************

Main muddaton jiya hun kisi dost ke bgair
Ab tum bhi saath chhodne ko kah rahe ho khair

****************************

हम से पूछो ना दोस्ती का सिला
दुश्मनों का भी दिल हिला देगा................$$$$

****************************

Ham se poochho na dosti ka sila
Dushmanon ka bhi dil hila dega................$$$$

****************************

ऐ दोस्त तुम से तर्क-ए-ताल्लुक़ के बावजूद
महसूस की है तेरी ज़रूरत कभी कभी................$$$$

****************************

Ae dost tum se tarq-e-taalluk ke baadjood
Mahsoos ki hai teri jarurat kabhi kabhi................$$$$

****************************

यों लगे दोस्त तेरा मुझसे ख़फा हो जाना
जिस तरह फूल से ख़ुश्बू का जुदा हो जाना................$$$$

****************************

Yon lage dost tera mujhse khafa ho jaana
Jis tarah phool se khushboo ka juda ho jaana................$$$$

****************************

इस अजनबी शहर में ये पत्थर कहां से आया “फराज़”
लोगों की इस भीड में कोई अपना ज़रूर है................$$$$

****************************

Is ajnabi sehar me ye patthar kahan se aaya “Faraz”
Logon ki is bheed me koi apna zaroor hai................$$$$

****************************

बदगुमाँ हो के मिल ऐ दोस्त जो मिलना है तुझे
ये झिझकते हुए मिलना कोई मिलना भी नहीं................$$$$

****************************

Badgumaan ho ke mil ae dost jo milna hai tujhe
Ye jhijhkte hue milna koi milna bhi nahin................$$$$

****************************


रफ़ीक़ों से रक़ीब अच्छे जो जल कर नाम लेते हैं
गुलों से ख़ार बेहतर हैं जो दामन थाम लेते हैं................$$$$

****************************

Rafeekon se raqeeb acchhe jo jal kar naam lete hain
Gulon se khaar behtar hain jo daaman thaam lete hain................$$$$

****************************


हम ने सुना था की दोस्त वफ़ा करते हैं “फ़राज़”
जब हम ने किया भरोसा तो रिवायत ही बदल गई................$$$$

****************************

Ham ne suna tha ki dost wafa karte hai “Faraz”
Jab humne kiya bharosa to rivayat hee badal gai................$$$$

****************************

दुश्मनों की जफ़ा का ख़ौफ़ नहीं
दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं................$$$$

****************************

Dushmanon ki zafa ka khauf nahin
Doston ki wafa se darte hain................$$$$

****************************

दुश्मनों से क्या ग़रज़ दुश्मन हैं वो
दोस्तों को आज़मा कर देखिए................$$$$

****************************


Dushmanon se kya garaj dushman hain wo
Doston ko aazma kar dekhiye................$$$$

****************************


दोस्तों को भी मिले दर्द की दौलत या रब
मेरा अपना ही भला हो मुझे मंज़ूर नहीं................$$$$

****************************


Doston ko bhi mile dard ki daulat ya rab
Mera apna hi bhala ho mujhe manjoor nahin................$$$$

****************************


दोस्तों मैं कोई ख़ुदा तो न था
तुम ने फिर क्यूँ भुला दिया मुझ को................$$$$

****************************

Doston mein koi khuda to na tha
Tum ne phir kyun bhula diya mujh ko................$$$$

****************************


पूछा है ग़ैर से मिरे हाल-ए-तबाह को
इज़हार-ए-दोस्ती भी किया दुश्मनी के साथ................$$$$

****************************


Punchaa hai gair se mire haal-e-tabaah ko
Izhaar-e-dosti bhi kiya dushmani ke saath................$$$$

****************************


पत्थर लिए हर मोड़ पे कुछ लोग खड़े हैं
इस शहर में कितने हैं मिरे चाहने वाले................$$$$

****************************


Patthar liye har mod pe kuchh log khade hain
Is shahar mein kitane hai mire chaahane waale................$$$$

****************************


फ़ाएदा क्या सोच आख़िर तू भी दाना है “असद”
दोस्ती नादाँ की है जी का ज़ियाँ हो जाएगा................$$$$

****************************


Faayada kya soch aakhir tu bhi daana hai “Asad”
Dosti naadaan ki hai jee ka jiyaan ho jaayega................$$$$

****************************

हजूम ए दोस्तों से जब कभी फुर्सत मिले
अगर समझो मुनासिब तो हमें भी याद कर लेना................$$$$

****************************


Hajoom e doston se jab kabhi fursat mile
Agar samjho munasib to hame bhi yaad kar lena................$$$$

****************************

बाद मरने के भी छोड़ी न रफ़ाक़त मेरी
मेरी तुर्बत से लगी बैठी है हसरत मेरी................$$$$

****************************

Baad marne ke bhi chhodi na rafaaqat meri
Meri turbat se lagi baithi hai hasrat meri................$$$$

****************************

दोस्ती अपनी भी असर रखती है फ़राज़
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो................$$$$

****************************

Dosti apni bhi asar rakhti hai Faraz
Bahut yaad aayenge jara bhool ke dekho................$$$$

****************************

ये फ़ित्ना आदमी की ख़ाना-वीरानी को क्या कम है
हुए तुम दोस्त जिस के दुश्मन उस का आसमाँ क्यूँ हो................$$$$

****************************

Ye fitna aadami ki khaana-veerani ko kya kam hai
Hue tum dost jis ke dushman us ka aasman kyun ho................$$$$

****************************

ढूँढ़ने पर भी न मिलता था मुझे अपना वजूद
मैं तलाश-ए-दोस्त में यूँ बेनिशाँ था दोस्तो................$$$$

****************************

Dhoondane par bhi na milta tha mujhe apna wajood
Main talaash-e-dost mein yun benishaan tha dosto................$$$$

****************************

हम को अग़्यार का गिला क्या है
ज़ख़्म खाएँ हैं हम ने यारों से................$$$$

****************************

Hum ko agyaar ka gila kya hai
Zakhm khaayen hain hum ne yaaron se................$$$$

****************************

हम पे गुज़रा है वो भी वक़्त ‘ख़ुमार’
जब शनासा भी अजनबी से मिले................$$$$

****************************

Hum pe gujra hai wo bhi waqt ‘Khumar’
Jab shanaasa bhi ajnabi se mile................$$$$

****************************

हर क़दम पे नाकामी हर क़दम पे महरूमी................$$$$
ग़ालिबन कोई दुश्मन दोस्तों में शामिल है

****************************

Har kadam par naakaami har kadam pe mahroomi
Ghaliban koi dushman doston mein shaamil hai................$$$$

****************************

“शुजा” वो ख़ैरियत पूछें तो हैरत में न पड़ जाना
परेशाँ करने वाले ख़ैर-ख़्वाहों में भी होते हैं................$$$$

****************************

“Shuza” wo khairiyat pooncchen to hairat mein na pad jaana
Pareshan karne waale khair-khwaahon mein bhi hote hain................$$$$

****************************

ये सोच कर भी हँस न सके हम शिकस्ता-दिल
यारान-ए-ग़म-गुसार का दिल टूट जाएगा................$$$$

****************************

Yw soch kar bhi hans na sake ham shikasta-dil
Yaaran-e-gham-gusaar ka dil tut jaayega................$$$$

****************************

मेरे दोस्त की पहचान यही काफी है
वो हर शख्स को दानिस्ता* खफा करता है................$$$$

****************************

Mere dost ki pehchan yahi kaafi hai
Wo har shakhs ko danista khafa karta hai................$$$$

****************************


दोस्ती अपनी भी असर रखती है “‘फ़राज़”
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो................$$$$

****************************

Dosti apni bhi asar rakhti hai Faraz
Bahut yaad aayenge jara bhool ke dekho................$$$$

****************************

मेरे दोस्त की पहचान यही काफी है
वो हर शख्स को दानिस्ता* खफा करता है................$$$$

****************************

Mere dost ki pehchan yahi kaafi hai
Wo har shakhs ko danista khafa karta hai................$$$$

****************************

हम ने सुना था की दोस्त वफ़ा करते हैं “फ़राज़”
जब हम ने किया भरोसा तो रिवायत ही बदल गई................$$$$

****************************

Ham ne suna tha ki dost wafa karte hai “Faraz”
Jab humne kiya bharosa to rivayat hee badal gai................$$$$

****************************

हजूम ए दोस्तों से जब कभी फुर्सत मिले
अगर समझो मुनासिब तो हमें भी याद कर लेना................$$$$

****************************

Hajoom e doston se jab kabhi fursat mile
Agar samjho munasib to hame bhi yaad kar lena................$$$$

****************************

शिद्दत-ए-दरद से शर्मिंदा नहीं मेरी वफा “फराज़”
दोस्त गहरे हैं तो फिर जख्म भी गहरे होंगे................$$$$

****************************

Shiddat-E-Dard se sharminda nahi meri wafa “Faraz”,
Dost gehrey hain to phir zakham bhi gehre honge................$$$$

****************************

इस अजनबी शहर में ये पत्थर कहां से आया “फराज़”
लोगों की इस भीड में कोई अपना ज़रूर है................$$$$

****************************

Is ajnabi sehar me ye patthar kahan se aaya “Faraz”
Logon ki is bheed me koi apna zaroor hai................$$$$

****************************

ये कह कर मुझे मेरे दुश्मन हँसता छोड़ गए
तेरे दोस्त काफी हैं तुझे रुलाने के लिए................$$$$

****************************

Ye kah kar mujhe mere dushman hansta chhod gaye
Tere dost kaafi hain tujhe rulane ke liye................$$$$

****************************

लाख बेमेहर सही दोस्त तो रखते हो “फ़राज़”
इन्हें देखो कि जिन्हें कोई सितमगर ना मिला................$$$$

****************************

Laakh bemehar sahi dost to rakhte ho “Faraz”
Inhein dekho ki jinhein koi sitamgar na mila................$$$$

****************************

तुम तक़ल्लुफ़ को भी इख़लास समझते हो “फ़राज़”
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला................$$$$

****************************

Tum takalluf ko bhi ikhlaas samjhte ho “Faraz”
Dost hota nahin har haath milaane waala................$$$$

****************************

मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं “फराज”
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर................$$$$

****************************

Mere doston ki pehchaan itni musqil nahi “Faraz”
Wo hasna bhool jate hain, Mujhe rote dekh kar................$$$$

****************************

मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं “फराज”
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर................$$$$

****************************

Mere doston ki pehchaan itni musqil nahi “Faraz”
Wo hasna bhool jate hain, Mujhe rote dekh kar................$$$$

****************************


आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं................$$$$
जैसे हर शय में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं................$$$$

****************************

Aa ke tujh bin is tarah ae dost ghabrata hoon main
Jaise har shay mein kisi shay ki kami paata hun main................$$$$


****************************


वो ज़माना भी तुम्हें याद है तुम कहते थे
दोस्त दुनिया में नहीं “दाग” से बेहतर अपना................$$$$

****************************


Wo zamaana bhi tumhein yaad hai tum kehate the
Dost duniya mein nahin “Dagh” se behatar apna................$$$$

****************************


इक नया ज़ख़्म मिला एक नई उम्र मिली
जब किसी शहर में कुछ यार पुराने से मिले................$$$$

****************************


Ik naya zakhm mila ek nai umar mili
Jab kisi shehar mein kuchh yaar puraane mile................$$$$

****************************


हमें भी आ पड़ा है दोस्तों से काम कुछ यानी
हमारे दोस्तों के बेवफ़ा होने का वक़्त आया................$$$$

****************************


Hamein bhi aa pada hai doston se kaam kuchh yaani
Humare doston ke bewafa hone ka waqt aaya................$$$$

****************************


मिरा ज़मीर बहुत है मुझे सज़ा के लिए
तू दोस्त है तो नसीहत न कर ख़ुदा के लिए................$$$$

****************************


Mira zameer bahut haim mujhe saza ke liye
Tu dost hai to naseehat na kar khuda ke liye................$$$$

****************************


दोस्ती और किसी ग़रज़ के लिए
वो तिजारत है दोस्ती ही नहीं................$$$$

****************************


Dosti aur kisi garaj ke liye
Wi tijaarat hai dosti hi nahin................$$$$

****************************


दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए................$$$$

****************************


Dosti jab kisi se ki jaaye
Dushmanon ki bhi raay li jaaye................$$$$

****************************


दिल अभी पूरी तरह टूटा नहीं
दोस्तों की मेहरबानी चाहिए................$$$$

****************************


Dil abhi puri tarah toota nahin
Doston ki meharbaani chaahiye................$$$$

****************************


दोस्ती आम है लेकिन ऐ दोस्त
दोस्त मिलता है बड़ी मुश्किल से................$$$$

****************************


Dosti aam hai leqin ae dost
Dost milta hai badi mushqil se................$$$$


****************************

जहाँ दुनिया निगाहें फेर लेगी
वहाँ ऐ दोस्त तुमको हम मिलेंगे................$$$$

****************************


Jahan duniya nigaahein fer legi
Wahan ae dost tumko ham milenge................$$$$

****************************


जिन्दगी आप की ही नवाजिश है
वरना ऐ दोस्त हम मर गये होते................$$$$

****************************


Zindagi aap ki nawaazish hai
Warna ae dost ham mar gaye hote................$$$$

****************************


दुश्मन भी हो तो दोस्ती से पेश आये हम
बेगानगी से अपना नहीं आश्ना मिजाज................$$$$

****************************


Dushman bhi ho to dosti se pesh aaye ham
Begaangi se apna nahin aashna mizaaz................$$$$


****************************

दुश्मनी जम कर करो मगर इतना याद रहे
जब भी फिर दोस्त बन जाये, शर्मिन्दा न हो................$$$$

****************************


Dushmani jam kar karo magar itna yaad rahe
Jab bhi phir dost ban jaaye, sharminda na ho................$$$$

****************************


मुझको ही तलब का ढब नहीं आया
वरना ऐ दोस्त तेरे पास क्या नहीं था................$$$$

****************************


Muhko ho talab ka dhab nahin aaya
Warna ae dost tere paas kya nahin tha................$$$$

****************************


मेहरबानी को मुहब्बत नहीं कहते ऐ दोस्त
आह! अब मुझसे रंजिशे-बेजा भी नहीं................$$$$

****************************


Meharbaani ko muhabbat nahin kehate ae dost
Aah! ab mujhse ranzishe-beja bhi nahin................$$$$

****************************


यह कहाँ की दोस्ती है कि बने हैं दोस्त़ नासेह
कोई चारासाज होता कोई गमगुसार होता................$$$$

****************************


Yah kahan ki dosti hai ki bane hain dost naaseh
Koi chaarsaaz hota koi ghamgusar hota................$$$$

****************************


यह चन्द लमहे जो गुजरे तेरी रफाकत में
न जाने वह कितने वर्ष काम आयेंगे................$$$$

****************************


Yah chand lamhein jo gujare teri rafaaqat mein
Na jaane wah kitane varsh kaam aayenge................$$$$

****************************


मुझे मेरे दोस्तों से बचाइये “राही”
दुश्मनों से मैं ख़ुद निपट लूँगा................$$$$

****************************


Mujhe mere doston se bachaaiye “Rahi”
Dushmanon se mein khud nipat loonga................$$$$

****************************


ऐ दोस्त यूँ तो हम तेरी हसरत को क्या कहें
लेकिन ये ज़िंदगी भी कोई ज़िंदगी नहीं................$$$$

**************************

Ae dost yun to ham teri hasrat ko kya kahein
Leqin ye zindagi bhi koi zindagi nahin................$$$$

****************************


तुम तक़ल्लुफ़ को भी इख़लास समझते हो ‘फ़राज़’
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला................$$$$

****************************

Tum taqalluf ko bhi ikhlaas samjhte ho ‘Faraz’
Dost hota nahin har haath milaane waala................$$$$

****************************

देखा जो तीर खा के कमीं-गाह की तरफ़
अपने ही दोस्तों से मुलाक़ात हो गई................$$$$

****************************

Dekha jo teer kha ke kami-gaah ki taraf
Apne hi doston se mulaaqaat ho gai................$$$$

****************************

तू मेरा दोस्त है दुश्मन है मुझे कुछ तो बता
तेरा किरदार तराज़ू नहीं होता मुझ से................$$$$

****************************

Tu mera dost hai dushman hai mujhe kuchh to bata
Tera kirdaar taraaju nahin hota mujhse................$$$$

****************************

तुम अपने दोस्तों के ज़रा नाम तो बता दो
मैं अपने दुश्मनों की तादाद तो समझ लूँ................$$$$

****************************

Tum apne doston ke zara naam to bata do
Main apne dushmanon ki taadaad to samjh loon................$$$$

****************************

ग़ुंचों का फ़रेब-ए-हुस्न तौबा काँटों से निबाह चाहता हूँ
धोके दिए हैं दोस्तों ने दुश्मन की पनाह चाहता हूँ................$$$$

****************************

Gunchon ka fareb-e-husn tauba kaanton se nibaah chaahta hun
Dhoke diye hain doston ne dushman ki panaah chaahata hun................$$$$

****************************

जब भी ग़ैरों की इनायत देखी
हम को अपनों के सितम याद आए................$$$$

****************************

Jab bhi gairon ki inaayat dekhi
Ham ko apno ke sitam yaad aaye................$$$$

****************************

ग़ैरों को क्या पड़ी है कि रुस्वा करें मुझे
इन साज़िशों में हाथ किसी आश्ना का है................$$$$

****************************

Gairon ko kya padi hai ki ruswa karein mujhe
In sazishon mein haath kisi aashna ka hai................$$$$

****************************

आ गया जौहर अजब उल्टा ज़माना क्या कहें
दोस्त वो करते हैं बातें जो अदू करते नहीं................$$$$

****************************

Aa gaya Jauhar ajab ulta zamaana kya kahein
Dost wo karte hain baatein jo aoo karte nahin................$$$$

****************************

आड़े आया न कोई मुश्किल में
मशवरे दे के हट गए अहबाब................$$$$

****************************

Aade aaya na koi mushqil mein
Mashware de ke hat gaye ahbaab................$$$$

****************************

मेरी ख़ुशी से मेरे दोस्तों को ग़म है “शमीम”
मुझे भी इस का बहुत ग़म है, क्या किया जाए................$$$$

****************************

Meri khushi se mere doston ko gham hai “Shamim”
Mujhe bhi is ka bahut gham hai, Kya kiya jaaye................$$$$

****************************

No comments:

Post a Comment