Rahim Ke Dohe in Hindi












रहीम उन खास कवियों में से एक हैं, जिनके दोहे आज भी बहुत प्रसिद्ध हैं. इनके लिखे हुए दोहे आज भी प्रासंगिक हैं. इनके दोहों में गूढ़ अर्थ छिपे हुए होते हैं. और इनके दोहों का जीवन से जुड़ा होना इनके दोहों की चमक फीकी नहीं पड़ने देता है. रहीम अरबी, फारसी और संस्कृत के बढ़िया जानकार थे.

रहीम के दोहे अर्थ सहित :

एकै साधे सब सधै, सब साधे सब जाय ।

रहिमन मूलहिं सींचिबो, फूलै फलै अगाय ॥

अर्थात – एक-एक करके कामों को करने से सारे काम पूरे हो जाते हैं. ठीक उसी तरह जैसे पेड़ के जड़ को पानी से सींचने से वह फल-फूलों से लद जाता है.

सारांश : एक हीं बार में सारे कामों को शुरू करने से सफलता नहीं मिलती है, ठीक वैसे हीं जैसे अगर किसी पेड़ के एक-एक पत्ते या एक-एक टहनी को सींचा जाए और जड़ को सूखा छोड़ दिया जाए, तो पेड़ फल-फूलों से कभी नहीं भरेगा.

रहिमन निज संपति बिना, कोउ न बिपति सहाय ।

बिनु पानी ज्‍यों जलज को, नहिं रवि सकै बचाय ।।

अर्थात – जब मुश्किल परिस्थिति आती है, तो व्यक्ति की अपनी कमाई गई दौलत या सम्पत्ति हीं उसकी सबसे बड़ी मददगार होती है. उस मुश्किल समय में व्यक्ति की सहायता कोई नहीं करता है. ठीक उसी तरह जैसे किसी तालाब का पूरा पानी सूख जाने पर, सूर्य कमल के फूल को सूखने से नहीं बचा सकता है.

सारांश : इतना जरुर कमाइए कि अपनी न्यूनतम जरूरतों को आप खुद पूरा कर सकें. और विपत्ति के समय आपको किसी और की ओर मुँह ताकने की जरूरत न पड़े.

बिगरी बात बनै नहीं, लाख करौ किन कोय ।

रहिमन फाटे दूध को, मथे न माखन होय ।।

अर्थात – हर व्यक्ति को कुछ भी बोलने से पहले और किसी दूसरे व्यक्ति से व्यवहार करने से पहले हीं सोच लेना चाहिए. क्योंकि जो भी बात एक बार बिगड़ जाती है, वह फिर लाखों कोशिशों के बाद भी सामान्य नहीं होती है. ठीक वैसे हीं जैसे, जब एक बार दूध फट जाता है, तो वह हमेशा के लिए फट ..



Rahim Ke Dohe in Hindi,Rahim Key Dohe,Rahim Ke Dohe image,rahim ke dohe or kabir ke dohe image.

No comments:

Post a Comment