Shair o shayari in urdu romantic

  • हस्ती-इ-गुलिस्ताएं जहाँ कुछ भी नहीं...
  • चहकती हैं बुलबुलें जहाँ गुल का निशां कुछ भी नहीं...
  • कल तक जिनके महलों में हजारों झांड़ और फानूश थे...
  • पेड़ ही उनकी कब्र पर, बाकी निशा कुछ भी नहीं...


  • ******************************

  • हाथ थे मिले कि ज़ुल्फ़ को सवार दूं...
  • होंठ थे खुले कि हर बहार को पुकार लूं...
  • दर्द था दिया गया कि हर दुखी को पुकार लूं
  • हो सका न कुछ मगर शाम बन गयी सहर..
  • वह उठी लहर कि बह गए किले बिखर बिखर...
  • कारवां गुज़र गया...गुबार देखते रहे...

  • ******************************


  • ये जो मेरे शहर में रोशनी लायें होंगे....
  • इन चिरागों ने ना जाने कितने घर जलाये होंगे...
  • हाथ उनके भी यकीनन हुए होंगे जख्मी...
  • जिसने मेरी राह में कांटें बिछाये होंगे..

  • ******************************


  • बरस ए अब्र जितना चाहे तू..
  • कि अब तेरी बारी है....
  • कभी दिल था तो हम भी...
  • रो रो के दरिया बहाया करते थे...

  • ******************************

  • तेरे चेहरे की चमक सदा बनी रहे,
  • हसीं इन लबों पे सदा सजी रहे,
  • दूर रखे खुदा सारे गमो से तुझे,
  • खुशी तेरे दामन में सदा बनी बनी.


  • ******************************

  • सिने में लगी आग को दबा लेंगे,
  • दिल में उस बात को छुपा लेंगे.

  • ******************************


  • तुझे देखे बिना तेरी तस्वीर बना सकता हूँ,
  • तुझसे मिले बिना तेरा हाल बता सकता हूँ,
  • हैं, मेरी दोस्ती में इतना दम की, अपनी,
  • आखों के आसूं तेरी आखों से गिरा सकता हूँ.


  • ******************************


  • बेवफा जब भी तेरी याद आती हैं,
  • टूटे दिल से आह निकल जाती हैं,
  • इस पर तुने मरहम तो लगाया नही था,
  • फ़िर क्यों तेरी याद इसे आ जाती हैं.

  • ******************************


  • तुम अपने मादक नयनो से मुझे यूं इशारा न करो,
  • क्योंकि तेरे मादक नयनो को देखकर मेरा मन भी बहक जाता हैं.

  • ******************************


  • कसम खाने के बाद, अक्सर वह हमे भूल जाते हैं,
  • तभी तो हम उन्हें बेवफा कहते हैं.

  • ******************************


  • मुक्कदर का गरीब, दिल का आमिर था
  • मिलकर बिछड़ना मेरा नसीब था,
  • चाह कर भी कुछ कर न सके हम,
  • घर जलता रहा और समुन्दर करीब था.

  • ******************************

  • ख्वाब देखू , ख्वाब -सी ताबीर हो सकती नहीं 
  • जो बदल जाये मेरी तकदीर हो सकती नहीं 


  • ******************************

  • गम के घर तक ना जाने की कोशिश करो 
  • जाने किस मोड पर मुस्कराना पड़े

  • ******************************

  • मैं तो खोया रहूँगा तेरे प्यार में 
  • तू ही कह देना जब तू बदलने लगे

  • ******************************

  • कभी लफ्जो से गद्दारी न करना 
  • गजल पढ़ना अदाकारी न करना

  • ******************************

  • मैं उसको भूल गया हूँ यह कौन मानेगा 
  • किसी चराग के बस में धुँआ नहीं होता

  • ******************************

  • दूर तक हाँथ में कोई पत्थर ना था 
  • फिर भी हम जाने क्यों सर बचाते रहे

  • ******************************

  • रात मेरी नहीं रात तेरी नहीं 
  • जिसने आँखों में काटी ,वही पायेगा

  • ******************************

  • रात भर आंशुओ से जो लिक्खी गयी 
  • सुबह उस कहानी का सौदा हुआ 

  • आरजुओ का रिश्तों से रिश्ता ही क्या 
  • तुम किसी के हुए, मैं किसी का हुआ

  • ******************************

  • गम के घर तक ना जाने की कोशिश करो 
  • जाने किस मोड पर मुस्कराना पड़े 
  • सही बोला दोस्त आपने 
  • शायद हम गम को इतना करीब ले आतें हैं की ख़ुशी हमसे दूर हो जाती है 
  • आखिर दोनों का रिश्ता एक दुसरे के विपरीत जो है 

  • ******************************

  • मैं तो खोया रहूँगा तेरे प्यार में 
  • तू ही कह देना जब तू बदलने लगे 
  • आखिर प्यार किया है हमने 
  • ये फिदरत हमारी कैसे हो ?

  • ******************************

  • मैं उसको भूल गया हूँ यह कौन मानेगा 
  • किसी चराग के बस में धुँआ नहीं होता 
  • सुन्दर ................

  • ******************************

  • दोस्त बड़ा जबरदस्त शेर प्रस्तुत किया है आपने .....
  • आगे भी इंतज़ार रहेगा

  • ******************************

  • आँसू गिरने की आहट नही होती
  • दिल के टूटने की आवाज नहीं होती
  • गर होता उन्हें एहसास दर्द का
  • तो दर्द देने की आदत नहीं होती !

  • ******************************

  • यह कौन राह दिखाकर चला गया मुझको 
  • मैं जिंदगी में भला किसके काम आया था

  • ******************************

  • आँखें मुझे तल्वों से वो मलने नहीं देते
  • अरमान मेरे दिल का निकलने नहीं देते

  • ******************************

  • ख़ातिर से तेरी याद को टलने नहीं देते
  • सच है कि हमीं दिल को संभलने नहीं देते

  • ******************************

  • कट गई झगड़े में सारी रात वस्ल-ए-यार की
  • शाम को बोसा लिया था, सुबह तक तक़रार की

  • ******************************

  • लूटते हैं देखने वाले निगाहों से मज़े 
  • आपका जोबन मिठाई बन गया बाज़ार की

  • ******************************

  • पत्थर की जो लकीर थे , वो लोग मिट गए ,

  • हम ऐसे नक्श थे की हवा पर बने रहे....

  • ******************************

  • फिर से सरहद पे खड़े हो के ये सदा दी जाए ,

  • क्यूँ न नफरत की ये दीवार गिरा दी जाए.....

  • ******************************

  • शाखों से टूट जाएँ , वो पत्ते नहीं हम ,

  • आंधी से कोई कह दे की औकात में रहे.....

  • ******************************

  • दिल पे नफरत हो तो चेहरे पर भी ले आता हूँ ,

  • बस इसी बात से दुश्मन मुझे पहचान गए.....

  • ******************************

  • हम तो अभी मोहब्बत में जी भी ना पाए थे 

  • कि उसने नफरतों में जीना सिखा दिया

  • ******************************

  • तू नही तेरा ज़िक्र नही,
  • अपनी शर्तो पर जी रहा हूँ आज ,
  • अब तेरी शर्तो की फ़िक्र नही............

  • ******************************


  • बड़ी आसानी से दिल लगाये जाते है,
  • पर बड़ी मुश्किल से वादे निभाए जाते है,
  • ले जाती है मोहब्बत उन राहों पर,
  • जहाँ दिये नहीं दिल जलाये जाते है|


  • ******************************

  • दिल के ज़ख्मो पर मत रो मेरे यार,
  • वक़्त हर ज़ख्म का मरहम होता है,
  • दिल से जो सच्चा प्यार करे,
  • उनका तो खुदा भी दीवाना होता है|

  • ******************************


  • हमसे कोई गिला हो जाये तो माफ़ करना ,
  • याद न कर पाए तो माफ़ करना,
  • दिलसे तो हम आपको कभी भूलते नहीं,
  • पर यह दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना|

  • ******************************

  • दिल में उनकी यादो की एक झलक सी रहती है,
  • इन हवाओ में हरपल उनकी महक सी रहती है,
  • दिल को इंतजार है हमेशा बस उनके आने का,
  • हमे उनसे मिलने की अब एक कसक सी रहती है|


  • ******************************


  • ऐसा होता नहीं की आपकी हमे याद न आये,
  • बात सिर्फ इतनी है की हम कभी जता न पाए,
  • प्यार तुम्हारा हमारे लिए अनमोल है सनम,
  • मौका दिया नहीं तुमने और हम दिखा न पाए|

  • ******************************


  • गर मिटटी हैं , तो पल भर में बिखर जायेंगे ,

  • गर खुशबू हैं , तो इस दौर को मह्कायेंगे .

  • हम तो रूहे सफ़र हैं , हमे नाम से ना जान ,

  • कल किसी और नाम से आ जायेंगे.

  • ******************************

  • अजब अपना हाल होता जो विसाल-ए-यार होता
  • कभी जान सदक़े होती कभी दिल निसार होता

  • न मज़ा है दुश्मनी में न है लुत्फ़ दोस्ती में
  • कोई ग़ैर ग़ैर होता कोई यार यार होता

  • ******************************

  • न तुम्हें क़रार होता न हमें क़रार होता

  • तेरे वादे पर सितमगर अभी और सब्र करते
  • अगर अपनी जिन्दगी का हमें ऐतबार होता

  • ******************************


  • आईना कुछ नहीं ,नज़र का दोखा है।
  • नज़र वही आता है ,जो दिल मे होता है ।
  • आईना ओर दिल का एक ही फसाना है....
  • अंजाम दोनों का टूटकर बिखर जाना है ...........$$$$

  • ******************************

  • मौसम कैसा भी रहे कैसी चले बयार
  • बड़ा कठिन है भूलना पहला-पहला प्यार

  • ******************************

  • पहले चारा चर गये अब खायेंगे देश
  • कुर्सी पर डाकू जमे धर नेता का भेष

  • ******************************

  • तोड़ो, मसलो या कि तुम उस पर डालो धूल
  • बदले में लेकिन तुम्हें खुशबू ही दे फूल

  • ******************************

  • सुभान अल्लाह सभी शेर एक से बढ़कर एक है
  • बहुत ही शानदार और उम्दा सूत्र है मित्र
  • काश खुदा हमें भी ऐसी खुदाई बकस्ता की हम भी शायर होते

  • ******************************

  • ये ख़त नहीं सदा-ए-दर्दमंद है ,

  • इक बेवतन का प्यार लिफाफे में बंद है.....

  • ******************************

  • खिल के गुल कुछ तो बहारे-जां-फिजां दिखला गए ,

  • हसरत उन गुन्चो पे है जो बिन खिले मुरझा गए.....

  • ******************************

  • ज़माना बड़े शौक से सुन रहा था ,

  • हमीं सो गए दास्ताँ कहते कहते.....

  • ******************************


  • नरम अल्फाज़ भी चुभ जाते हैं कांटो की तरह 
  • चोट फूलों से भी लग जाती है पत्थरों की तरह

  • ******************************

  • बीती बातें फिर दोहराने बैठ गए 
  • क्यों ख़ुद को ही ज़ख़्म लगाने बैठ गए

  • अभी-अभी तो लब पे तबस्सुम बिखरा था
  • अभी-अभी फिर अश्क बहाने बैठ गए?

  • ******************************

  • आजकल मुल्क में बिकते तो हैं अख़बार बहुत 
  • कुछ ख़ुशी देते हैं कुछ देते हैं आज़ार बहुत 

  • ये अलग बात है इक फूल न खिल पाया वहाँ 
  • यूँ तो उगने लगे सहरा में भी अश्जार बहुत

  • ******************************

  • गर प्यार न हो तो, ये जहाँ है भी नहीं भी
  • होंगे न मकीं गर, तो मकाँ है भी नहीं भी

  • जब तुम ही नहीं हो तो ज़माने से मुझे क्या
  • ठहरे हुए जज़्बात में जाँ है भी नहीं भी

  • ******************************

  • हो यक़ीं मोहकम, बहुत दुशवार है
  • अब भी उस के हाथ में तलवार है,

  • जो किसी के काम ही आए नहीं
  • हैफ़ ऐसी ज़िंदगी बेकार है,

  • ******************************

  • न डालो बोझ ज़हनों पर कि बचपन टूट जाते हैं
  • सिरे नाज़ुक हैं बंधन के जो अक्सर छूट जाते हैं

  • न रख रिश्तों की बुनियादों में कोई झूट का पत्थर
  • लहर जब तेज़ आती है, घरौंदे टूट जाते हैं

  • ******************************

  • ख़ुश्बू ए गुल भी आज है अपने चमन से दूर
  • दरिया में चाँद उतरा है चर्ख़ ए कुहन से दूर 

  • मेरा वजूद ऐसे बियाबाँ में खो गया
  • ग़ुरबत में जैसे कोई मुसाफ़िर वतन से दूर

  • ******************************

  • न डालो बोझ ज़हनों पर कि बचपन टूट जाते हैं
  • सिरे नाज़ुक हैं बंधन के जो अक्सर छूट जाते हैं

  • न रख रिश्तों की बुनियादों में कोई झूट का पत्थर
  • लहर जब तेज़ आती है, घरौंदे टूट जाते हैं 




  • ******************************

  • जान कर भी वो मुझे जान न पाए ,

  • आज तक वो मुझे पहचान ना पाए.

  • खुद ही की है बेवफाई हमने ,

  • ताकि उन पर कोई इल्जाम ना आये....

  • ******************************

  • आसमान के तारे अक्सर पूछते हैं हमसे ....

  • क्या तुम्हे आज भी इंतज़ार है ,
  • उसके लौट आने का.
  • और ये दिल मुस्कुरा के कहता है....
  • मुझे अब तक यकीन ना हुआ 
  • उसके चले जाने का.....

  • ******************************

  • न डालो बोझ ज़हनों पर कि बचपन टूट जाते हैं
  • सिरे नाज़ुक हैं बंधन के जो अक्सर छूट जाते हैं

  • न रख रिश्तों की बुनियादों में कोई झूट का पत्थर
  • लहर जब तेज़ आती है, घरौंदे टूट जाते हैं बहुत सुंदर लाईन लिखी है सीना जी आपने

  • ******************************

  • न डालो बोझ ज़हनों पर कि बचपन टूट जाते हैं
  • सिरे नाज़ुक हैं बंधन के जो अक्सर छूट जाते हैं

  • न रख रिश्तों की बुनियादों में कोई झूट का पत्थर
  • लहर जब तेज़ आती है, घरौंदे टूट जाते हैं बहुत सुंदर लाईन लिखी है सीना जी आपने

  • ******************************

  • आईना कुछ नहीं ,नज़र का दोखा है।
  • नज़र वही आता है ,जो दिल मे होता है ।
  • आईना ओर दिल का एक ही फसाना है....
  • अंजाम दोनों का टूटकर बिखर जाना है ..................... 
  • वाह वाह .मित्र ....अच्छा कलेक्सन

  • ******************************

  • मुझको रुलाकर, दिल उसका भी रोया तो होगा ।
  • चेहरा आसुओ से उसने भी धोया तो होगा ।
  • अगर न किया हासिल हमने प्यार मे ।
  • कुछ न कुछ उसने भी खोया तो होगा ।

  • ******************************

  • न कत्ल करते हैं, न जीने की दुआ देते हैं,
  • लोग किस जुर्म की आखिर ये सज़ा देते है ।

  • ******************************

  • यूं तो मंसूर बने फिरते हैं कुछ लोग,
  • होश उड जाते हैं जब सिर का सवाल आता है ।

  • ******************************

  • मुझे तो होश नही, तुमको खबर हो शायद ,
  • लोग कहते है कि तुम ने मुझ को बर्बाद कर दिया ।

  • ******************************

  • देखिए गौर से रुक कर किसी चौराहे पर,
  • जिंदगी लोग लिए फिरते हैं लाशों के तरह ।

  • ******************************

  • मेरे दिल को तुझसे इतना प्यार सा क्यों है
  • तू है मेरे लिए ही बनी ,ये विश्वास सा क्यों है !
  • मुझे तो खुद में कुछ नया नज़र आता नहीं
  • आइना मुझे देखकर फिर हैरान सा क्यों है !
  • न तो मैं बाइबल हूँ ,न गीता और न कुरान
  • हर कोई मुझे पढने को फिर बेताब सा क्यों है !
  • तेरा दिल है सुन्दर शंख में जोंक की तरह
  • चेहरा तेरा लगता फिर गुलाब सा क्यों है !
  • भूलना चाहता हूँ तुझे बीते दिनों की तरह
  • यादों मेरी ,तेरा फिर रुखसार सा क्यों है !
  • नफरत है तेरे हुस्न ,तेरे इश्क ,तेरे दीदार से मुझे
  • ये दिल तुझसे मिलने को फिर बेकरार सा क्यों है !!

  • ******************************

  • क्षितिज के उस पार सुबह -शाम मेरा दिल हलाल होता है !
  • तभी तो दोनों वक़्त सूरज का रंग लाल होता है !!

  • ******************************

  • ******************************


  • दिल को छू लेने वाली बात कही आपने.

  • आपके इस व्यक्तित्व के दर्शन अब तक क्यों नहीं हुए?

  • बेहतरीन शेर के लिए REPUTATION स्वीकार करें.

  • ******************************

  • हालात की तपिश से अभी होंठ खुश्क हैं ,

  • कैसे कहूँ की आपका लहजा करख्त था.

  • ******************************

  • आँख का आंसू ना हमसे बच सका ,

  • घर के सामान की हिफाजत क्या करें....

  • ******************************

  • हमने अपनी आखों में ज़ज्ब कर लिए आंसू ,

  • पत्थर पे गिरते ,तो ज़ख्म हो गए होते....

  • ******************************

  • कैसा यार , कहाँ की यारी ,

  • धोखा खाओ बारी बारी.....

  • ******************************

  • जब आता है गर्दिश का फेर ,

  • मकड़ी के जाले में फसता है शेर....

  • ******************************

  • कभी भूल कर भी न कहना किसी से
  • अपना गम ए यारो !
  • आजकल तो हर शख्स
  • हाथ में नमक लिए फिरता है !!

  • ******************************


  • दिल को छू लेने वाली बात कही आपने.

  • आपके इस व्यक्तित्व के दर्शन अब तक क्यों नहीं हुए?

  • ******************************

  • दर्द को भी अब दर्द होने लगा है
  • दर्द अब मुझमें जीने लगा है !
  • जिस दर्द को देखकर ना रोये कभी हम
  • वो दर्द हमें देखकर रोने लगा है !!

  • ******************************

  • वह क्या बात कही है शायर ने

  • गम बिछड़ने का नहीं करते खानाबदोश ,

  • वो तो वीराने बसाने का हुनर जानते हैं.......

  • ******************************

  • हसते हसते हर बार कुछ अश्क़ निकल आते है 
  • बस यही नही मालूम वो खुशी के थे या छुपे गम के |

  • ******************************

  • आरज़ू क अंबार लगे है दिल में हमारे इतने
  • कौनसी पूरी हो यही नही पता मुश्किल में खुदा भी |

  • ******************************

  • ना जाने हवाए कब रुख़ बदल दे अपना ज़िंदगी में कही और तुझसे 
  • खुशी का हर लम्हा मिलता है जो पलछिन उसे संभाले रख लेना |

  • ******************************

  • तस्वीर के भी ना जाने कितने पहलू नज़र से छुपे छुपाए रह गये 
  • इश्क़ में कतल कर हमारा ,वो इल्ज़ाम हमी पे लगाए चल दिए |

  • ******************************

  • दिल में बहुत प्यार है बाकी अब भी तेरे लिए सरताज मेरे
  • कभी मिलकर भी साथ छूट जाता है इस में कुछ भलाई हो |

  • ******************************

  • हम तो आगे जाने की कोशिश में थोड़े कामयाब भी हुए जानिसार
  • मन वही अक्सर रुकता है जहा तेरी यादें बिखरी महकती अभी तलक |

  • ******************************

  • या खुदा क्या खता हुई मुझसे बतादे भूले से
  • दिल को किसी के घायल होने का इल्म हुआ है |

  • ******************************

  • दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुँजाइश रहे
  • जब कभी हम दोस्त हो जायें तो शर्मिन्दा न हों

  • ******************************

  • बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
  • जहाँ दरिया समन्दर में मिले, दरिया नहीं रहता

  • तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है
  • हमारे शहर में भी अब कोई हमसा नहीं रहता

  • ******************************

  • तमाम रिश्तों को मैं घर पे छोड़ आया था।
  • फिर उस के बाद मुझे कोई अजनबी नहीं मिला

  • ******************************

  • ज़िन्दगी तूने मुझे कब्र से कम दी है ज़मीं
  • पाँव फैलाऊँ तो दीवार में सर लगता है

  • ******************************

  • उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो।
  • न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाए।

  • ******************************

  • कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से 
  • ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो

  • ******************************

  • दुश्मनी का सफ़र इक क़दम दो कद़म
  • तुम भी थक जाओगे हम भी थक जाएँगे

  • ******************************

  • हम तो दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है
  • हम जहाँ से जाएँगे, वो रास्ता हो जाएगा

  • ******************************

  • मैं इतना बदमुआश नहीं यानि खुल के बैठ
  • चुभने लगी है धूप तो स्वेटर उतार दे।

  • ******************************

  • मैं घर से जब चला तो किवाड़ों की ओट में
  • नर्गिस के फूल चाँद की बाँहों में छुप गए।

  • ******************************

  • कभी पा के तुझको खोना कभी खो के तुझको पाना
  • ये जनम जनम का रिश्ता तेरे मेरे दरमियाँ हैं
  • उन्हीं रास्तों ने जिन पर कभी तुम थे साथ मेरे
  • मुझे रोक-रोक पूछा तेरा हमसफ़र कहाँ है

  • ******************************

  • मेरी छत से रात की सेज तक कोई आँसुओं की लक़ीर है 
  • ज़रा बढ़ के चाँद से पूछना वो उसी तरफ़ से गया न हो
  • वो फ़िराक़ हो कि विसाल हो तेरी आग महकेगी एक दिन
  • वो गुलाब बन के खिलेगा क्या जो चराग़ बन के जला न हो

  • ******************************

  • मेरी छत से रात की सेज तक कोई आँसुओं की लक़ीर है 
  • ज़रा बढ़ के चाँद से पूछना वो उसी तरफ़ से गया न हो
  • वो फ़िराक़ हो कि विसाल हो तेरी आग महकेगी एक दिन
  • वो गुलाब बन के खिलेगा क्या जो चराग़ बन के जला न हो

  • ******************************

No comments:

Post a Comment