shayari hindi english mix



इतनी सी बात पे दिल की धड़कन रुक गई फ़राज़
एक पल जो तसव्वुर किया तेरे बिना जीने का

************************

Itani si baat pe dil ki dhadkan ruk gai Faraz
Ek pal jo tasvvur kiya tere bina jeene ka


************************

इस तरह गौर से मत देख मेरा हाथ ऐ फ़राज़
इन लकीरों में हसरतों के सिवा कुछ भी नहीं

************************

Is tarah gaur se mat dekh mera haath ae Faraz
In laqiron mein hasraton ke siwa kuch bh nahin

************************

उसने मुझे छोड़ दिया तो क्या हुआ फ़राज़
मैंने भी तो छोड़ा था सारा ज़माना उसके लिए

************************

Use mujhe chod diya to kya hua Faraz
Maine bhi to choda tha sara zamana uske liye


************************

ये मुमकिन नहीं की सब लोग ही बदल जाते हैं
कुछ हालात के सांचों में भी ढल जाते हैं

************************

Ye mumkin nahin ki sab log hi badal jate hai
Kuchh haalaat ke saanchon mein bhi dhal jate hai

************************

कौन देता है उम्र भर का सहारा फ़राज़
लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं

************************

Kaun deta hai umar bhar ka sahara Faraz
log to janaje mein bhi kandhe badalte rehate hai

************************

वो रोज़ देखता है डूबे हुए सूरज को फ़राज़
काश मैं भी किसी शाम का मंज़र होता

************************

Wo roz dekhta hai doobe hue sooraj ko Faraz
Kaash main bhi kisi sham ka manzar hota


************************

खाली हाथों को कभी गौर से देखा है फ़राज़
किस तरह लोग लकीरों से निकल जाते हैं

************************

Khaali haathon ko kabhi gaur se dekha haimFaraz
Kis tarah log laqiron se nikal jate hai

************************

मेरी ख़ुशी के लम्हे इस कदर मुख्तसिर* हैं फ़राज़
गुज़र जाते हैं मेरे मुस्कराने से पहले

************************

Meri khushi ke lamhe is kadar mukhtsir hain Faraz
Gujar jate hai mere muskurane se pahale

************************

चलता था कभी हाथ मेरा थाम के जिस पर
करता है बहुत याद वो रास्ता उसे कहना

************************

Chalta tha kabhi haath mera thaam ke jis par
Karta hai bahut yaad wo rasta use kehana

************************

उम्मीद वो रखे न किसी और से फ़राज़
हर शख्स मुहब्बत नहीं करता उसे कहना

************************

Ummid wo rakhe na kisi aur se Faraz
Har shakhs muhabbat nahinkarta use kehana

************************

वो बारिश में कोई सहारा ढूँढता है फ़राज़
ऐ बादल आज इतना बरस की मेरी बाँहों को वो सहारा बना ले

************************

Wo barish mein koi sahara dhoondata hai Faraz
E badal aaj itna baras ki meri bahon ko wo sahara bana le


************************

गिला करें तो कैसे करें फ़राज़
वो लातालुक़ सही मगर इंतिखाब तो मेरा है

************************

Gila kare to kaise karein Faraz
Wo lataaluk sahi magar intikhaab to mera hai


************************

ये वफ़ा उन दिनों की बात है फ़राज़
जब लोग सच्चे और मकान कच्चे हुआ करते थे

************************

Ye wafa un dino ki baat hai Faraz
Jab log sacche aur makan kacche hua karte the

************************

दीवार क्या गिरी मेरे कच्चे मकान की फ़राज़
लोगों ने मेरे घर से रास्ते बना लिए

************************

Deewar kya giri mere kachche makam ki Faraz
Logon ne mere ghar se raste bana liye

************************

कभी टूटा नहीं मेरे दिल से आपकी याद का तिलिस्म फ़राज़
गुफ़्तगू जिससे भी हो ख्याल आपका रहता है

************************

Kabhi tuta nahin mere dil se aapki yaad ka tilism Faraz
Guftgoo jisse bhi ho khyal aapka rehata hai


************************

चाहने वाले मुक़द्दर से मिला करते हैं फ़राज़
उस ने इस बात को तस्लीम* किया मेरे जाने के बाद

************************

Chaahane wale mukaddar se mila karte hai Faraz
Us ne is baat ko taslim kiya mere jaane ke baad


************************

दोस्ती अपनी भी असर रखती है फ़राज़
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो

************************

Dosti apni bhi asar rakhti hai Faraz
Bahut yaad aayenge jara bhool ke dekho


************************

मुहब्बत में मैंने किया कुछ नहीं लुटा दिया फ़राज़
उस को पसंद थी रौशनी और मैंने खुद को जला दिया

************************

Muhabbat mein maine kiya kuchh nahin luta diya Faraz
US ko pasand thi raushani aur maine khud ko jala diya


************************

कभी हिम्मत तो कभी हौसले से हार गए
हम बदनसीब थे जो हर किसी से हार गए
अजब खेल का मैदान है ये दुनिया फ़राज़
कि जिसको जीत चुके उसी से हार गए

************************

Kabhi himmat to kabhi hausale se haar gaye
Hum badnaseeb the jo har kisi se haar gaye
Ajab khel ka maidan hai ye duniya Faraz
Ki jisko jeet chuke usi se haar gaye


************************

फुर्सत मिले तो कभी हमें भी याद कर लेना फ़राज़
बड़ी पुर रौनक होती हैं यादें हम फकीरों की

************************

Fursat mile to kabhi humein bhi yaad kar lena Faraz
Badi pur raunak hoti hai yaadein hum faqiron ki


************************

वो बाज़ाहिर तो मिला था एक लम्हे को फ़राज़
उम्र सारी चाहिए उसको भुलाने के लिए

************************

Wo bazahir to mila tha ek lamhe ko Faraz
Umar sari chahiye usko bhulane ke liye


************************

वक़्त-ए-नज़ा है, इस कशमकश में हूँ की जान किसको दूं फ़राज़
वो भी आए बैठे हैं और मौत भी आई बैठी है


************************

Waqt-e-naza hai, is kashmkash mein 
hoon ki jaan kisko doon Faraz
Wo bhi aaye baithe hain aur maut bhi aai baithi hai

************************

एक पल जो तुझे भूलने का सोचता हूँ फ़राज़
मेरी साँसें मेरी तकदीर से उलझ जाती हैं

************************

Ek pal jo tujhe bhoolane ka sochata hoon Faraz
Meri saanse meri taqdir se ulajh jati hai


************************

सवाब समझ कर वो दिल के टुकड़े करता है फ़राज़
गुनाह समझ कर हम उन से गिला नहीं करते

************************

Sawaab samajh kar wo dil ke tukade karta hai Faraz
Gunaah samajh kar hum un se gila nahin karte

************************


मोहब्बत के अंदाज़ जुदा होते हैं फ़राज़
किसी ने टूट के चाहा और कोई चाह के टूट गया

************************

Mohabbat ke andaz juda hote hain Faraz
Kisi ne toot ke chaaha aur koi chaah ke toot gaya

************************

जब उसका दर्द मेरे साथ वफ़ा करता है
एक समुन्दर मेरी आँखों से बहा करता है

************************

Jab uska dard mere saath wafa karta hai
Ek samundar meri aankhon se baha karta hai


************************

मैं डूब के उभरा तो बस इतना ही देखा है फ़राज़
औरों की तरह तू भी किनारे पे खड़ा था

************************

Main doob ke ubhara to bas itana hi dekha hai Faraz
Auron ki taarh tu bhi kinare pe khada tha

************************

वो ये समझता है की मैं हर चेहरे का तलबगार* हूँ फ़राज़
मैं देखता सभी को हूँ बस उस की तलाश में हूँ

************************

Wo ye samjhta hai ki main har chehare ka talbgar hoon Faraz
Main dekhta sabhi ko hoon bas us ki talash mein hun

************************

आँखों में हया हो तो पर्दा दिल का ही काफी है फ़राज़
नहीं तो नकाबों से भी होते हैं इशारे मोहब्बत के

************************

Aankhon mein haya ho to parda dil ka hi kaafi hai Faraz
Nahin to naqabon se bhi hote hain ishaare mohabbat ke

************************

ये सोच कर तेरी महफ़िल में चला आया हूँ फ़राज़
तेरी सोहबत में रहूँगा तो संवर जाऊंगा

************************

Ye sonch kar teri mahafil mein chala aaya hoon Faraz
Teri sohbat mein rahunga to sawar jaaunga


************************

ये ही सोच कर उस की हर बात को सच माना है फ़राज़
के इतने खूबसूरत लब झूठ कैसे बोलते होंगे

************************

Ye hi soch kar us ki har baat ko sach mana hai Faraz
Ke itne khoobsoorat lab jhoot kaise bolte honge


************************

मेरे लफ़्ज़ों की पहचान अगर कर लेता वो फ़राज़
उसे मुझ से नहीं खुद से मुहब्बत हो जाती

************************

Mere lafzon ki pehchan agar kar leta wo Faraz
Use mujh se nahin khud se muhabbat ho jaati

************************

उस की निगाह में इतना असर था फ़राज़
खरीद ली उसने एक नज़र में ज़िन्दगी हमारी

************************

Us ki nigaah mein itna asar tha Faraz
Khareed li usne ek nazar mein zindagi hamari


************************

मौसम का ऐतबार ज्यादा नहीं किया सो उसने हमसे प्यार ज्यादा नहीं किया
कुछ तो फ़राज़ हमने पलटने में देर की कुछ उसने इंतज़ार ज्यादा नहीं किया

************************

Mausam ka aitbaar jyada nahin kiya so usne hamshe pyar jyada nahin kiya
Kuch to Faraz hamne palatne me der ki kuch usne intezar jyada nahin kiya


*************************

वो बात बात पे देता है परिंदों की मिसाल
साफ़ साफ़ नहीं कहता मेरा शहर ही छोड़ दो

************************

Wo baat baat pe deta hai parindon ki misal
Saaf saaf nahin kehata mera sehar hi chhod do

************************

तुम्हारी एक निगाह से कतल होते हैं लोग फ़राज़
एक नज़र हम को भी देख लो के तुम बिन ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती

************************

Tumhari ek nigaah se qatal hote hai log Faraz
Ek nazar hum ko bhi dekh lo ke tum bin zindagi achchi nahin lagti


************************

अब उसे रोज़ न सोचूँ तो बदन टूटता है फ़राज़
उमर गुजरी है उस की याद का नशा किये हुए

************************

Ab use roz na sonchoon to badan toot ta hai Faraz
Umar gujari hai us ki yaad ka nasha kiye hue


************************

एक नफरत ही नहीं दुनिया में दर्द का सबब फ़राज़
मोहब्बत भी सकूँ वालों को बड़ी तकलीफ़ देती है

************************

Ek nafrat hi nahin duniya mein dard ka sabab Faraz
Mohabbat bhi sakoon walon ko badi taklif deti hai


************************

हम अपनी रूह तेरे जिस्म में छोड़ आए फ़राज़
तुझे गले से लगाना तो एक बहाना था

************************

Hum apni rooh tere jism mein chhod aaye Faraz
Tujhe gale se lagana to ek bahaana  tha


************************

माना कि तुम गुफ़्तगू के फन में माहिर हो फ़राज़
वफ़ा के लफ्ज़ पे अटको तो हमें याद कर लेना

************************

Mana ki tum guftgoo ke fan mein mahir ho Faraz
Wafa ke lafz pe atako to humein yaad kar lena


************************

ज़माने के सवालों को मैं हँस के टाल दूँ फ़राज़
लेकिन नमी आखों की कहती है “मुझे तुम याद आते हो”

************************

Zamane ke sawalon ko mein hans ke taal doon Faraz
Lekin nami aankhon ki kehati hai “mujhe tum yaad aate ho”


************************

अपने ही होते हैं जो दिल पे वार करते हैं फ़राज़
वरना गैरों को क्या ख़बर की दिल की जगह कौन सी है

************************

Apne hi hote hai jo dil pe war karte hai Faraz
Warna gairon ko kya khabar ki dil ki jagah kaun si hai


************************

तोड़ दिया तस्बी* को इस ख्याल से फ़राज़
क्या गिन गिन के नाम लेना उसका जो बेहिसाब देता है

************************

Tod diya tasbi ko is khyaal se Faraz
Kya gin gin ke naam lena uska jo behisaab deta hai


************************

हम से बिछड़ के उस का तकब्बुर* बिखर गया फ़राज़
हर एक से मिल रहा है बड़ी आजज़ी* के साथ

************************

Hum se bichad ke us ka takbbur bikhar gaya Faraz
Har ek se mil raha hai badi aajaji ke sath

************************

उस शख्स से बस इतना सा ताल्लुक़ है फ़राज़
वो परेशां हो तो हमें नींद नहीं आती

************************

Us shakhs se bas itna sa taalluk hai Faraz
Wo pareshan ho to humein neend nahin aati


************************

बर्बाद करने के और भी रास्ते थे फ़राज़
न जाने उन्हें मुहब्बत का ही ख्याल क्यूं आया

************************

Barbaad karne ke aur bhi raaste the Faraz
Na jane unhe muhabbat ka hi khyal kyun aaya


************************

तू भी तो आईने की तरह बेवफ़ा निकला फ़राज़
जो सामने आया उसी का हो गया

************************

Tu bhi to aaine ki tarah bewafa nikal Faraz
Jo samane aaya usi ka ho gaya

************************

बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से फ़राज़
एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला

************************

Bach na saka khuda bhi muhabbat ke takaazon se Faraz
Ek mahboob ki khatir sara jahan bana dala


************************

मैंने आज़ाद किया अपनी वफ़ाओं से तुझे
बेवफ़ाई की सज़ा मुझको सुना दी जाए

************************

Maine aazad kiya apni wafaao se tujhe
Bewafaai ki saza mujhko suna di jaye


************************

मैंने माँगी थी उजाले की फ़क़त इक किरन फ़राज़
तुम से ये किसने कहा आग लगा दी जाए

************************

Maine maangi thi ujaale ki fakat ik kiran Faraz
Tum se ye kisne kahan aag laga di jaye


************************

No comments:

Post a Comment