वादा Shayari WAADA





आप अपनी नज़रें
क्यूँ हमसे चुराने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

देखकर आपको हम
क्यूँ नज़रें झुकाने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

नाम से तेरे होठों में
क्यूँ हंसी को छुपाने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

अपनी ही बाँहों में
क्यूँ हम आज आने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

आँखों की गहराई से
क्यूँ दिल में समाने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

तसव्वुर से अपने हमें
क्यूँ आप ही उठाने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं .............@@@###$$$

तन्हाइयों में रात की
क्यूँ सपनों में आने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

महफिलों में दोस्तों की
क्यूँ सब अनजाने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

आईने से आप मेरी
क्यूँ आँखों में छाने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं .............@@@###$$$

भूलना जो चाहें आपको
क्यूँ और याद आने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

नाम से आप के हम
क्यूँ आंसू बहाने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

जाती हवाओं को हम
क्यूँ साँसे गिनाने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

आप मेरी ईद के
क्यूँ चाँद नज़र आने लगे हैं
आप क्यूँ मुस्कुराने लगे हैं.............@@@###$$$

******************************************



Aap apani Nazaren
kyu humse churaane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain .............@@@###$$$

Dekhakar aapko hum
Kyun nazaren jhukaane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Naam se tere hothon mein
Kyun hansi ko chhupaane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Apni hi bahon mein
kyun hum aaj ane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Ankhon ki gaharaai se
Kyun dil mein samaane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Tasavvur se apne hamein
Kyun aap hi uthane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Tanhaaion mein raat ki
Kyun sapano mein aane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Mahfilon mein doston ki
Kyun sab anjaane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Aaine se aap meri
Kyun ankhon mein chhane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Bhoolana jo chahen aapko
Kyun aur yaad aane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Naam se aapke hum
Kyun aansoo bahaane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Jaati Hawaon ko hum
Kyum saanse ginaane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

Aap meri Eid ke
Kyun chaand nazar aane lage hain
Aap kyun muskurane lage hain.............@@@###$$$

******************************************


तेरी खुशबू से मेरे ख्वाब ,
महकते रहे सारी रात.............@@@###$$$

तेरे आने से मेरे होश ,
बहकते रहे सारी रात.............@@@###$$$

तेरी धड़कनों को सुन के ,
मचलते रहे सारी रात .............@@@###$$$

तेरे हुस्न की ख़ुमारी में ,
छलकते रहे सारी रात.............@@@###$$$

तेरी सांसों से मेरे सांस ,
दहकते रहे सारी रात .............@@@###$$$

तेरी जुल्फों के साए में ,
ढलकते रहे सारी रात.............@@@###$$$

तेरे होठों पे मेरे होंठ ,
सरकते रहे सारी रात.............@@@###$$$

तेरे जिस्म की गरमी से ,
पिघलते रहे सारी रात.............@@@###$$$

तेरी खुशबू से मेरे ख्वाब ,
महकते रहे सारी रात.............@@@###$$$

******************************************


Teri khushboo se mere khwaab,
Mahakte rahe saari raat.............@@@###$$$

Tere aane se mere Hosh,
Bahakte rahe saari raat.............@@@###$$$

Teri Dhadkano ko sun kar,
Machlate rahe saari raat.............@@@###$$$

Tere Husn ki khumari mein ,
Chhalakate rahe saari raat.............@@@###$$$

Teri sanson se mere saans,
Dahakte rahe saari raat.............@@@###$$$

Teri zulfon ke saaye main ,
Dhalakate rahe saari raat.............@@@###$$$

Tere hothon pe mere honth .............@@@###$$$
Sarakate rahe sari raat ,

Tere Jism ki garmi se,
Pighalte rahe saari raat.............@@@###$$$

Teri khushboo se mere khwaab,
Mahakte rahe saari raat .............@@@###$$$

******************************************


जब से मैंने अपनी डगर पायी है ,
हर तरफ़ बस रौशनी ही छाई है ,
खेलता हूँ मस्तियो से आप मैं ,
साथ मेरे एक खुद की परछाईं है.............@@@###$$$

इसने दोस्ती की ये सदा निभाई है ,
साथ में रहने की कसम खायी है ,
जब तलक हो सांस इस जहान में ,
साथ मेरे दोस्त मेरी परछाईं है.............@@@###$$$

ना पल पहले जहान में आई है ,
ना इसने मुझसे की रुसवाई है ,
जिस्मे वफ़ा और मेरी साँसों से भी ,
प्यारी मुझे दोस्त मेरी परछाईं है.............@@@###$$$

******************************************

Jab se maine apani dagar paayi hai ,
Har taraf bas Roshni hi chhayi hai ,
Khelta hoon mastion se aap main ,
Saath mere ek khud ki parchhaain hai.............@@@###$$$

Isne Dosti ki yeh sadaa nibhai hai ,
Saath mein rahane ki kasam khayi hai ,
Jab talak ho saans is jahaan mein ,
Saath mere dost meri parchhaain hai.............@@@###$$$

Na pal pahle jahaan mein aayi hai ,
Na isne mujhse ki ruswai hai ,
Jisme Wafa aur meri saanson se bhi ,
Pyaari mujhe dost meri parchhaain hai.............@@@###$$$

******************************************


देखा नहीं कभी उसे ,
और सुना भी नहीं ,
पकडा नहीं कभी उसे ,
और छुआ भी नहीं.............@@@###$$$
बस देखी है उसके चेहरे की किताब ,
और पढ़ा है उसके लफ्जों का हिसाब ,
फिर क्यूँ खींचता है उसका अहसास.............@@@###$$$
और आता है उसका वजूद मेरे पास ,
कभी हूँ उदास कि वो मिली नहीं ,
तो कभी हैरान कि मिली तो सही ,
उससे है अहसास इंतज़ार का ,
और इंतज़ार की खट्टी मिठास का ,
उसके अहसास से हुआ है ये अहसास.............@@@###$$$
कि उसकी खुशबु है मेरे बहुत पास.............@@@###$$$

******************************************



Dekha nahin kabhi use,
Aur suna bhi nahin,
Pakda nahin kabhi use.............@@@###$$$
Aur chua bhi nahin,
Bas dekhi hai uske chehre ki kitab,
Aur padha hai uske lafzo ka hisaab,
Phir kyun kheenchta hai uska ahsaas.............@@@###$$$
Aur aata hai uska vazood mere paas,
Kabhi hoon udaas ki wo mili nahin,
To kabhi hairaan ki mili to sahi,
Usase hai ahsaas intezaar ka ,
Aur intezaar ki khatti mithaas ka ,
Uske ahsaas se hua hai yeh ahsaas,
Ki uski khushbu hai mere bahut paas .............@@@###$$$

******************************************

जिंदा है आदमी ,
क्योंकि जिन्दा हैं हसरतें .............@@@###$$$

ना मरती हैं ना चुकती हैं ,
हमेशा कुछ बहकती हैं ,
ना दिखती हैं ना सुनती हैं,
हमेशा कुछ ये कहती हैं .............@@@###$$$

ना रुकती हैं न थकती हैं ,
हमेशा बस संवरती हैं ,
ना जगती हैं ना सोती हैं ,
हमेशा पास होती हैं.............@@@###$$$

कभी खामोश पलकों में ,
कभी दिल में उतरती हैं ,
कभी आंसू की सूरत में ,
आँखों से छलकती हैं.............@@@###$$$

कभी थिरकन ये होठों की ,
बनकर के निकलती हैं ,
कभी सिकुड़न हैं माथे की ,
बनकर फिर संभलती है.............@@@###$$$

कभी मायूस रातों के .
ख्वाबों में ये ढलती हैं ,
कभी ख्वाबों से बाहर हो ,
हमारे साथ चलती हैं.............@@@###$$$

जो हिम्मत हार जाती हैं ,
तो सब पर गुजरती हैं ,
तड़पते साँस को ये फिर ,
सचमुच में निगलती है ,

ये अद्भुत बात है लेकिन,
फिर से वो खनकती हैं,
भुलाकर भूत की बातें ,
नए सपनों में ढलती हैं.............@@@###$$$

हसरत के हैं सब आशिक,
पर फिर क्यूँ भुलाते हैं ,
गर, वो भूलना चाहे ,
तो इंसा मर ही जाते हैं.............@@@###$$$


******************************************


आगोश में उन्हें लेने का है ऐसा असर ,

कि ज़िन्दगी से हुए हैं हम बेसबर ,

दिल की धड़कनों को भी ये अहसास है ,

कि हम अपने आप से हुए हैं बेखबर.............@@@###$$$

*************************************************

Aagosh mein unhe lene ka hai aisa asar,

Ki zindagi se hue hain hum besabar,

Dil ki dhadakano ko bhi yeh ahsaas hai ,

Ki hum apane aap se hue hain bekhabar.............@@@###$$$

******************************************

दिल पे अब तो मेरे सारे ,
सुरूर उसका छाया है.............@@@###$$$
अब तो हरदम रहती है ,
आँखों के नीचे वो मेरी ,
पलकों से आँखों का रस्ता ,
उसने मुझे दिखाया है.............@@@###$$$

उसके चेहरे के ख्वाबों को ,
दिल ने खूब सुनाया है ,
सपनों के पीछे से आकर ,
उसने रोज़ जगाया है.............@@@###$$$

क्या वो भी मुझ जैसी है ,
सवाल यह उठाया है ,
दिल ने बोला प्यार प्यार से ,
वो तो मेरा साया है.............@@@###$$$


******************************************

Dil ko apne jaan ke apna ,
Hamne use bataya hai,
Ki dil mein kisi ki yaadon ne,
Kitna hamein sataya hai .............@@@###$$$

Jab dekho woh aa jaati hai,
Palakon se muskati hai,
Phir Dheere dheere sare dil pe,
Mere wo chhaa jaati hai.............@@@###$$$

Ab to hardam rahti hai ,
Ankhon ke neeche wo meri ,
Palakon se ankhon ka rasta,
Usne mujhe dikhaya hai.............@@@###$$$

Uske chehre ke khwabon ko,
Dil ne khoob sunaya hai,
Sapano ke peeche se aakar,
Usne roz jagayaa hai.............@@@###$$$

Kya woh bhi mujh jaisi hai,
Sawaal yeh uthaya hai ,
Dil ne bola pyar pyar se,
Woh to mera saaya hai.............@@@###$$$

******************************************



दिल को दिल से समझाना चाहिये ,

उनको अब और याद आना चाहिये.............@@@###$$$

इतना कि यादों की इन्तेहां हो जाये ,

और ना रहे इन्तेहां उनकी यादों की.............@@@###$$$

दिल की धड़कनों को चीर के ,

उन्हें दिल में समाना चाहिये.............@@@###$$$

उनके सिवाय दिल में कुछ भी ,

नहीं नज़र अब आना चाहिये .............@@@###$$$

******************************************


Dil ko dil se samjhana chahiye,

Unko ab aur yaad ana chahiye.............@@@###$$$

Itna ki yaadon ki inteha ho jaye ,

aur na rahe intehan unki yadon ki,

Dil ki dhadakano ko cheer ke.............@@@###$$$

Unhe dil mein samana chahiye,

Unke siva dil mein kuch bhi,

nahin Nazar ab ana chahiye.............@@@###$$$

******************************************

जिंदगी का अब एक ही फ़साना है ,
रोज़ हमें अपनी यादों को हँसाना है ,
आगे चाहे कुछ भी हो कभी भी.............@@@###$$$
आपको अपना वादा निभाना है ,
हमें अपनी आँखों में बसाकर ,
आपको हमेशा मुस्कुराना है.............@@@###$$$

******************************************

Zindgi ka ab ek hi fasana hai.............@@@###$$$
Roz hamein apni yadon ko hansana hai,
Aage Chahe kuchh bhi ho kabhi bhi ,
Aapko apna waada nibhana hai.............@@@###$$$
Hamein apni ankhon mein basakar,
Aapko hamesha muskurana hai.............@@@###$$$

******************************************


No comments:

Post a Comment