whatsapp shayari group 2016


नन्हे से दिल मे अरमान कोई रखना,
दुनिया की भीड मे पहचान कोई रखना,
अच्छा नही लगता, जब रहते हो उदास,
अपने होंठो पे सदा मुस्कान वही रखना....####

****************************

तमन्ना हो मिलने की तो,
बंद आँखों मे भी नज़र आएँगे....$$@$$
महसूस करने की कोशिश तो कीजिए,
दूर होते हुए भी पास नज़र आएँगे....$$@$$

*****************************

कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता,
गंभीर है किस्सा सुनाया नहीं जाता....$$@$$
एक बार जी भर के देख लो इस चहेरे को,
क्योंकि बार-बार कफ़न उठाया नहीं जाता.....$$@$$

*****************************


जरूर ये हवा किसी दुश्मन ने उड़ायी होगी ..
यकी करो हमारे बीच कभी नही जुदायी होगी ....$$@$$
उसने कुछ तो सोचा होगा हमारे बारे मे ..
जिसने हमारे दिलो मे ये चाहत जगायी होगी .....$$@$$

*****************************

काग़ज़ की कश्ती थी पानी का किनारा था,
खेलने की मस्ती थी ये दिल अवारा था....$$@$$
कहाँ आ गए इस समझदारी के दलदल में,
वो नादान बचपन भी कितना प्यारा था....$$@$$

*****************************


अभी मौत आई थी हमारे पास गुस्से मे,
बोल गई “जान ले लुँगी तेरी....$$@$$
मैने भी हँस कर कहा तु जिस्म लेजा,
जान तो कोई और ले गई....$$@$$

*****************************


जिंदगी को और भी हँसीन बना लेते हैं ।
ख़्वाबों को और भी रंगीन बना लेते हैं ....$$@$$
खत्म और करते हैं दो दिलों की दूरियाँ ।
प्यार अपना और बेहतरीन बना लेते हैं....$$@$$

*****************************

नज़र ठहरी है इक चेहरे पे जा कर,
मैं खुश हूँ आज इस महफ़िल में आ कर,
जमाना ढूँढता है मुझ को…. मुझ में,
मैं तुझ में खो गया हूँ.. तुझ को पा कर ......$$@$$

*****************************


मेरे प्यार को दिल्लगी समझकर तूने बदनाम किया।
तेरे दिलकी दास्तान सुनकर तुझ पे एतबार किया।
मेरे दिल की लगी को तूने झूठ का नाम दिया।
झूठा ही सही मेरे प्यार को तूने नाम तो दिया....$$@$$

*****************************

एक रोज हम जुदा हो जाएंगे,
ना जाने कहाँ खो जाएंगे. ।
तुम लाख पुकारोगे हम को....$$@$$
पर लौट कर हम ना आयेंगे ।
थक हार के दिन के कामों से,
जब रात को सोने आओगे ।
देखोगे जब फोन को अपने,
पैगाम मेरा ना पाओगे ।
तब याद तुम्हें हम आयेंगे....$$@$$

*****************************


हमारी खामोशी हमारी आहट है,
हमारी आंखें हमारी चाहत हैं,
हमारी जिंदगी अगर खूबसूरत है,
तो उसकी वजह बस आपकी मुस्कुराहट है....$$@$$

*****************************


हमारी रूह में ना समाए होते तो भूल जाते तुम्हे,
इतना करीब ना आए होते तो भूल जाते तुम्हे,
ये कहते हुए की “मेरा तालुक नही है तुमसे,
आँखो में आँसू ना आए होते तो भूल जाते तुम्हे......$$@$$


*****************************

टुट जाये ख्वाब तो जुङने की आस क्या रखना,
पलकों के भिगने का हिसाब क्या रखना,
बस इसलिए मुसकुरा देते हैं हम,
अपनी उदासी से किसी को उदास क्या रखना.....$$@$$

*****************************


पास आ जरा दिल की बात सुनाऊ तुझको,
कैसे धरकता है दिल आवाज़ सुनाऊ तुझको,
आ के तू देख ले दिल पे लिखा है नाम तेरा,
अगर कहता है तो दिल चीर के दिखाऊ तुझको......$$@$$
जितना जलाया है तुमने प्यार में मुझको,
दिल तो करता है की मै भी जलाऊ तुझको,
अजनबी होता तो ऐसा भी कर लेता शायद ,
मगर तू तो अपना है कैसे सताऊ तुझको....$$@$$

*****************************


मुद्दतों बाद कोई लौट कर आया,
आते ही उसने आँसू बहाया,
फिर मुझको अपनी बाहों मे भर लिया,
शायद वो अपनी गलती पर बहुत पछताया......$$@$$

*****************************


एक पहचान हजारों दोस्त बना देती है,
एक मुस्कान हजारों गम भुला देती है,
जिन्दगी के सफर में संभल कर चलना,
एक गलती हजारों सपने जला देती है......$$@$$

*****************************


चलो अपनी चाहतें नीलाम करते हैं,
प्यार का सोदा सर-ए-आम करते हैं,
तुम अपना साथ हमारे नाम कर दो,
हम अपनी ज़िन्दगी तुम्हारे नाम करते हैं....$$@$$

*****************************

वो काग़ज़ आज भी फूलों की तरह महकता है....$$@$$
जिस पर उसने मज़ाक़ से लिखा था मुझे तुमसे मोहब्बत है....$$@$$

*****************************


तूझे पाने की हसरत में कब तक तडपता रहूंगा....$$@$$
कोई ऐसा धोखा दे कि मेरी आस टूट जाए....$$@$$

*****************************

मेरी आवारगी में कुछ कसूर तुम्हारा भी
है…. ऐ.. दोस्त जब तुम्हारी याद आती है....$$@$$
तो घर अच्छा नही लगता....$$@$$

*****************************


सोच रही हूँ ख़त लिखने की,लेकिन क्या पैग़ाम लिखूँ......$$@$$
तुझ बिन काटी रात लिखूँ.. या साथ गुज़ारी शाम लिखूँ......$$@$$

*****************************

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है ....$$@$$
दिल ना चाह कर भी, खामोश रह जाता है....$$@$$
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है....$$@$$
कोई कुछ ना कहकर भी, सब बोल जाता है....$$@$$

*****************************



हर शाम से तेरा इज़हार किया करते है,
हर ख्वाब मे तेरा दीदार किया करते है,
दीवाने ही तो है हम तेरे,
जो हर वक़्त तेरे मिलने का इंतज़ार किया करते है......$$@$$


*****************************

इतनी बदसलूकी ना कर ऐ जिदंगी,
हम कौन सा यहाँ बार बार आने वाले है,
सुना है जिदंगी इम्तहान लेती है,
यहाँ तो इम्तहानों ने जिदंगी ले रखी है....$$@$$


*****************************

वो नजर कंहा से लाऊँ जो तुम्हें भुला दे,
वो दवा कंहा से लाऊँ जो ईस ददॅ को मिटा दे,
मिलना तो लिखा रहेता है तकदिरो में,
पर वो तकदिर कंहा से लाऊँ जो हम दोंनो को मिला दे......$$@$$

*****************************

No comments:

Post a Comment